टेक्नॉलॉजीराष्ट्रीय समाचार

उत्तर भारत को चीन से जोड़ने के लिए बनाया गया गर्बाधार लिपुलेख मार्ग आज राष्ट्र को समर्पित!

देवभूमि जेके न्यूज ऋषिकेश!

देहरादून 8 मई।उत्तर भारत को चीन से जोड़ने के लिए बनाया गया गर्बाधार लिपुलेख मार्ग आज देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जी द्वारा ऑनलाइन के माध्यम से उद्घाटन किये जाने के बाद राष्ट्र को समर्पित होने पर उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचंद अग्रवाल ने प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का आभार व्यक्त किया है।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा है कि गर्बाधार लिपुलेख तक बनी सड़क से एक ओर एसएसबी तथा आईटीबीपी के जवान कुछ ही घंटों में बॉर्डर तक पहुंच सकेंगे वहीं दूसरी ओर इस सड़क से प्रसिद्ध कैलाश मानसरोवर यात्रा, ओम पर्वत व आदि कैलाश के दर्शन सुगमता से हो सकेंगे। श्री अग्रवाल ने कहा कि इससे व्यास घाटी के सात गांवों के नागरिकों के लिए यह सड़क वरदान साबित होगी।इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने सड़क निर्माण के लिए बीआरओ की सराहना करते हुए उनका भी आभार व्यक्त किया है।

ग़ौरतलब है कि गर्बाधार से चीन सीमा तक सामरिक महत्व की पहली सड़क तैयार हो गई है।आज सुबह रक्षामंत्री राजनाथ सिंह द्वारा इसका ई-उद्घाटन किया गया।गर्बाधार से चीन सीमा लिपुलेख तक 76 किमी लंबी सड़क को बीआरओ ने तैयार किया है। यह सीमांत में चीन सीमा तक तैयार होने वाली पहली सड़क है।जिला मुख्यालय पिथौरागढ़ से लिपुलेख तक सड़क मार्ग की दूरी 216 किमी है। मुख्यालय से गर्बाधार तक सड़क पहले से थी।लेकिन गर्बाधार से चीन सीमा पर अंतिम भारतीय पड़ाव लिपुलेख तक सड़क का अभाव हमेशा खलता रहा। बीआरओ ने इसी 76 किमी लंबी दुरुह सड़क का निर्माण कार्य 2006 में शुरू किया था जो अब पूरा हो गया है।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

29 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close