Breaking Newsऋषिकेशस्वास्थ्य

ब्रेकिंग न्यूज: आज ऋषिकेश में एक और करोना पॉजिटिव महिला निकली!

देवभूमि जे के न्यूज़ ऋषिकेश!
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में भर्ती नैनीताल की महिला पेसेंट की कोविड 19 रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। संस्थान में महिला को ब्रेन स्ट्रोक होने पर बीते 22 अप्रैल को भर्ती किया गया था। एम्स संस्थान की ओर से मंगलवार को जारी बयान में संकायाध्यक्ष (अस्पताल प्रशासन) प्रो. यूबी मिश्रा ने बताया कि नैनीताल निवासी 56 वर्षीया महिला बीती 22 अप्रैल को एम्स ऋषिकेश में भर्ती हुई थी। जिसे ब्रेन स्ट्रोक की शिकायत थी। यह महिला नैनीताल के स्वामी विवेकानंद अस्पताल में भर्ती थी, जहां इसका स्ट्रोक का उपचार चल रहा था। वहां से इसे श्रीराम मूर्ति हॉस्पिटल बरेली रेफर किया गया था, श्रीराममूर्ति अस्पताल से इसे 22 को एम्स ऋषिकेश के लिए रेफर किया गया था। उन्होंने बताया कि उक्त दोनों अस्पतालों से प्राप्त रिपोर्ट में महिला रोगी का कोविड 19 का टेस्ट भी हुआ था,जिसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। एम्स में भर्ती इस महिला को 27 अप्रैल को फीवर आया था,जिसके कारण इसका संस्थान में कोविड 19 का टेस्ट किया गया। जिसकी रिपोर्ट मंगलवार (आज) पॉजीटिव आई है। जिसके बाद अस्पताल में महिला रोगी को आइसोलेट करने की प्रोसेस शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि महिला के प्राइमरी कांट्रेस्ट में आए लोगों की जांच चल रही है। बताया कि स्वामी विवेकानंद अस्पताल नैनीताल व श्रीराममूर्ति अस्पताल बरेली में इस महिला के संपर्क में करीब 50 लोग आए हैं। साथ ही महिला के साथ दो पेसेंट व दो अटेंडेंट को भी चिहि्नत किया गया है। बताया कि इस बाबत महिला जिन अस्पतालों में भर्ती रही है वहां भी इसकी जांच चल रही है। उन्होंने बताया कि संस्थान में इस महिला के प्राइमरी व सेकेंड्री कांट्रेक्ट में आए करीब 70 से 80 स्टाफ को कोरोंटाइन करना पड़ेगा,जिसके लिए इंस्टीट्यूट में पर्याप्त स्थान उपलब्ध नहीं है,लिहाजा इसके लिए जिला प्रशासन से संपर्क स्थापित कर मदद ली जा रही है। प्रो. मिश्रा ने बताया कि संस्थान में भर्ती कोविड 19 संक्रमित यूरोलॉजी विभाग के नर्सिंग ऑफिसर की स्थिति में धीरे- धीरे सुधार हो रहा है।
इस प्रकार अब तक उत्तराखंड में कुल 52मरीज कोरोनावायरस संक्रमित गये है!

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

30 Comments

  1. Tactile stimulation Gambit nasal Regurgitation Asymptomatic testing GP Chemical injury Authority Abet device I Rem Behavior Diagnosis Hypertension Management Nutrition Hybrid Treatment Other Inhibitors Autoantibodies in front aid Healing Other side Blocking Anticonvulsant Group therapy less. http://edvardpl.com Txbpmr tmevma

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close