ऋषिकेशशिक्षा

दुरदर्शन पर विशेषज्ञों द्वारा पढ़ाई होगी तो छात्रों का कल्याण होगा!

देवभूमि जे के न्यूज़, ऋषिकेश!
कोरोनावायरस महामारी के चलते पूरे विश्व की आर्थिक समाजिक शैक्षणिक गतिविधियों पर विराम लग गया है। भारत भी इससे अछूता नहीं है, भारत में लगभग सभी प्रकार के उद्योग धंधे, से लेकर व्यापारिक, शिक्षण संस्थाएं बंद है।
उत्तराखंड में भी कोरोना वायरस के कारण सभी क्षेत्रों पर व्यापक असर पड़ा है। लॉकडाउन से उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कक्षा 6 से लेकर दसवीं और इंटर को छोड़कर 11वीं तक के सभी बच्चों को परीक्षा न लेकर उन्हें अगली कक्षा में प्रवेश दे दिया गया है!
पर यक्ष प्रश्न यह है की आगे की कक्षाओं में बंद पड़े विद्यालयों में पढ़ाई किस तरह से हो?
शिक्षा विभाग ने आदेश जारी किया है की स्मार्टफोन से ऑनलाइन पढ़ाई शुरू की जाए।
लेकिन इसमें बहुत सारी खामियां हैं एक तो सरकारी विद्यालय में वही बच्चे हैं जिनकी आय सीमित है लगभग 90% बच्चों के पास स्मार्टफोन की सुविधा नहीं है।
10% छात्रों के अभिभावकों के पास यदि स्मार्टफोन है तो वह उसका इस्तेमाल बातचीत करने में प्रयोग करते हैं।
ऐसे में ऑनलाइन स्मार्टफोन के माध्यम से इस प्रकार छात्र-छात्राएं पढ़ पाएंगे इसका कोई सकारात्मक पक्ष नजर नहीं आ रहा है।
राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद लॉकडाउन के समय यदि पहल करता है तो विद्यालयों में शिक्षण व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए सरकार द्वारा दूरदर्शन के उत्तराखंड चैनल के माध्यम से विषय विशेषज्ञों के माध्यम से पठन-पाठन की व्यवस्था कर सकती है। जो निश्चित रूप से छात्र हित में होगा।
मुख्य रूप से सरकारी विद्यालयों में ऑनलाइन पढ़ाई की समस्या का समाधान काफी कठिन है। क्योंकि इन विद्यालयों में अध्यापन करने वाले छात्र-छात्राएं निर्धन परिवारों से संबंधित है, यदि किसी के पास स्मार्टफोन है तो उसे रिचार्ज करना उन परिवारों के लिए सबसे बड़ी समस्या है ।क्योंकि निर्धन परिवारों के पास इस समय काम-धाम बंद होने से रोजी-रोटी की समस्या भयंकर रूप से उत्पन्न हो गई है।
इस समस्या का सबसे बेहतरीन समाधान यही है कि उत्तराखंड चैनल के माध्यम से यदि पढ़ाई शुरू होती है तो निश्चित रूप से बच्चों को घर बैठे पठन-पाठन में सहायता मिल सकती है, और इसमें राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद की मदद लेकर सरकार शिक्षा को सुगम बना सकती है।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

29 Comments

  1. According OTC lymphatic procedure derangements РІ here are some of the symptoms suggestive on that follow-up : Gyves Up Age Equally Efficient Call the tune Associated Ache Duro Rehab Thickening-25 Fibrous Top Can Only Loose Mr. cialis online Uotpnx sjrwic

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close