ऋषिकेशधर्म-कर्मशहर में खासस्वास्थ्य

मानवता की मिसाल पेश कर रही है ऋषिकेश पुलिस!

ऋषिकेश एम्स से दो लोगों को अपने प्रयास से उनके गंतव्य को पहुंचाया!

देवभूमि जेकेन्यूज ऋषिकेश!
एम्स अस्पताल ऋषिकेश में कैंसर रोग से पीड़ित व्यक्ति योगम्बर सिंह पुत्र चतर सिंह निवासी ग्राम देवरी तहसील व थाना पौड़ी जिला पौड़ी गढ़वाल उम्र 36 वर्ष का इलाज चल रहा था जो दिनांक 18 फरवरी 2020 को एम्स अस्पताल ऋषिकेश में भर्ती होकर अपना इलाज करा रहा थे, जिसकी आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर है, वह इलाज के दौरान इसका एक पैर काटा गया है! जिसके साथ में इसकी पत्नी व तीन साल की बेटी भी है जो वापस अपने गांव जाने में असमर्थ हैं जिनके पास एंबुलेंस से अपने गांव तक जाने की व्यवस्था भी नहीं है।
सोशल मीडिया पर उपरोक्त व्यक्ति की आर्थिक मदद के संबंध में मैसेज प्रसारित हुआ। जिसका उत्तराखंड पुलिस के उच्चाधिकारी गणों द्वारा संज्ञान लिया गया।

पुलिस उपमहानिरीक्षक, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून के द्वारा तत्काल स्थानीय समाज सेवियों की सहायता से उक्त व्यक्ति की आर्थिक सहायता करने हेतु बताया गया था जिस पर आज दिनांक 29 मार्च 2020 को स्थानीय जनप्रतिनिधि गणों एवं समाजसेवी की सहायता से आवश्यकतानुसार राशन एवं उक्त व्यक्ति के जनपद पौड़ी गढ़वाल जाने हेतु एंबुलेंस की व्यवस्था कर एंबुलेंस का किराया ₹7000/-(सात हजार) रूपये एंबुलेंस चालक को देकर उसके गृह जनपद पौड़ी गढ़वाल के लिए रवाना किया गया।
इसके साथ ही एम्स अस्पताल ऋषिकेश में पेनक्रियाज के फेल होने व पैरालाइसिस पीड़ित व्यक्ति बशीर अहमद पुत्र अब्दुल्ला निवासी माधवपुर थाना अमरिया तहसील उमरिया जिला पीलीभीत उत्तर प्रदेश उम्र 65 वर्ष को दिनांक 28 मार्च 2020 को भर्ती कराया गया था।लाँक डाउन के चलते एवं इनके पास वापस जाने हेतु पैसे उपलब्ध ना होने के कारण इनके द्वारा एम्स चौकी ऋषिकेश में सूचना दी गई थी जिस पर उच्चाधिकारी गणों को इस विषय में अवगत कराया गया था।
जिस पर संज्ञान लेते हुए पुलिस उप- महानिरीक्षक,वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून के द्वारा अधीनस्थ थाना प्रभारी को स्थानीय समाजसेवी एवं जनप्रतिनिधियों की सहायता से आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने हेतु कहा गया था।
जिस पर आज दिनांक 29 मार्च 2020 को उपरोक्त व्यक्ति को इलाज के पश्चात स्थानीय लोगों की सहायता से जनपद पीलीभीत जाने हेतु ₹10,000/- (दस हजार रुपये) में एंबुलेंस से बुक करा कर भेजा गया।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

14 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close