ऋषिकेशधर्म-कर्म

चिट्ठी ना कोई संदेश जाने वह कौन सा देश जहां तुम चले गए!

कबीरा जब हम पैदा हुए जग हंसे हम रोए, ऐसी करनी कर चलो हम हंसे जग रोए।

देवभूमि जे के न्यूज़ ऋषिकेश!
पिछले दिनों व्यापारी नेता भारतीय जनता पार्टी के कर्मठ कार्यकर्ता एवं समाज के उत्थान में अग्रणी भूमिका निभाने वालेजय दत्त शर्मा के आकस्मिक निधन पर आज श्रद्धांजलि सभा एवं रस्म पगड़ी का आयोजन किया गया जिसमें शहर के तमाम लोग भारी संख्या में उपस्थित थे।

दिवंगत स्व.जयदत्त शर्मा को श्रद्धांजलि देते हुए लोगों ने कहा कि जयदत्त शर्मा व्यापारियों की हितों की रक्षा के लिए हमेशा संघर्षरत रहे और कभी भी शहर में कोई भी काम हुआ तो बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते थे।

जो भी शहर की समस्या होती थी उसके लिए हमेशा ही प्रयासरत रहते थे चाहे वो पंजाबी महासभा या भारतीय जनता पार्टी और व्यापारियों की समस्या हो, प्रतिनिधि के रूप में उनका जीवन हमेशा समाज हित पार्टी हित और व्यापारियों के हित के लिए समर्पित रहा।

हमारे बीच उनका असामयिक चले जाना निश्चित रूप से अपूर्णीय क्षति है, जिसे कभी पूर्ण नहीं किया जा सकता है। शहर में श्रद्धांजलि देने वालों में महामंडलेश्वर दयाराम दास, हर्षवर्धन शर्मा ,महंत विनय सारस्वत ,महंत बलवीर सिंह ,विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, देहरादून महापौर सुनील उनियाल गामा, ऋषिकेश महापौर अनीता मंमगाई, विजय सारस्वत, विनय उनियाल, रामसेवक दास, संदीप गुप्ता, विश्वास डाबर, पंडित रवि शास्त्री ,यशपाल अग्रवाल, पुनीत मित्तल, रवि जैन ,राजकुमार अग्रवाल, नवल कपूर, हरीश आनंद, गोविंद अग्रवाल ,प्रदीप दुबे, संजय व्यास, प्रदीप कोहली, ललित कुमार मिश्रा, मदन मोहन शर्मा, इंद्र प्रकाश अग्रवाल, शिव कुमार गौतम, जितेंद्र अग्रवाल, कृष्ण कुमार सिंघल ,अनिल गोयल, राजपाल खरोला, रोशन रतूड़ी ,माधव अग्रवाल, ज्योति सजवाण, दिनेश सती, राकेश सिंह मियां, राजीव मोहन अग्रवाल, प्रदीप गुप्ता, दिनेश कोठारी, दीपक चुघ, मनोज कालड़ा, पवन शर्मा, नीलम खुराना, नरेश अग्रवाल, शिव मोहन मिश्रा, संदीप मल्होत्रा के अलावा महाराष्ट्र के राज्यपाल महामहिम भगत राम कोशियारी ने अपनी शोक संवेदना भेजी।
साथ ही मुख्यमंत्री उत्तराखंड ने भी अपनी शोक संवेदना शोक संदेश के जरिए भेजी।
संचालन श्रवन जैन ने किया और पंडित भवानी दत्त कलाउनी ने रस्म पगड़ी कर दिवंगत जय दत्त शर्मा के सुपुत्र को पगड़ी बांधकर रस्म का समापन किया।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

43 Comments

  1. Very nice post. I just stumbled upon your blog and wanted to say that I’ve
    truly enjoyed surfing around your blog posts. After all I’ll be subscribing to
    your rss feed and I hope you write again soon! 31muvXS
    cheap flights

  2. First of all I would like to say great blog!
    I had a quick question that I’d like to ask if you do not mind.
    I was curious to find out how you center yourself and clear your thoughts before writing.

    I have had a tough time clearing my mind in getting my thoughts out there.
    I do take pleasure in writing but it just seems like the first 10
    to 15 minutes are generally lost simply just trying to figure out how
    to begin. Any recommendations or tips? Thanks! cheap flights 2CSYEon

  3. Wonderful blog! I found it while searching on Yahoo News.
    Do you have any suggestions on how to get listed in Yahoo News?
    I’ve been trying for a while but I never seem to get there!
    Thanks

  4. Trusted online apothecary reviews Volume Hum of Toxins Medications (ACOG) has had its absorption on the pancreas of gestational hypertension and ed pills online as proper as basal insulin in rigid elevations; the two biologic therapies were excluded stingy cialis online canadian pharmaceutics the Dilatation sympathetic of Lupus Nephritis. sildenafil online usa Sgdzpc klwojh

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close