शहर में खासशिक्षा

बच्चे नशे से दूर रहें -नीरजा गोयल!

देवभूमि जे के न्यूज़ ऋषिकेश!
निरजा देवभूमि चैरिटेबल ट्रस्ट ने आज निर्मल आश्रम में उच्चतर माध्यमिक विद्यालय 11 जमोला पट्टी दोगी टिहरी गढ़वाल के बच्चों को ऋषिकेश के आसपास के क्षेत्रों को दिखाने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया। जिसमें चीला पावर प्रोजेक्ट एवं सरकारी इमारतों को दिखाया गया।
मुख्य अतिथि के रूप में श्री भरत मंदिर इंटर कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य दिवाकर भानु प्रताप सिंह रावत ,प्रेमचंदानी ने शिरकत की इस अवसर पर मुख्य अतिथि दिवाकर भानु प्रताप सिंह रावत ने ग्रामीण परिवेश से आए बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि नशा एक ऐसी बुराई है जो हमारे समूल जीवन को नष्ट कर देती है। नशे की लत से पीड़ित व्यक्ति परिवार के साथ समाज पर बोझ बन जाता है। युवा पीढ़ी सबसे ज्यादा नशे की लत से पीड़ित है। सरकार इन पीड़ितों को नशे के चुंगल से छुड़ाने के लिए नशा मुक्ति अभियान चलाती है, शराब और गुटखे पर रोक लगाने के प्रयास करती है। नशे के रूप में लोग शराब, गाँजा, जर्दा, ब्राउन शुगर, कोकीन, स्मैक आदि मादक पदार्थों का प्रयोग करते हैं, जो स्वास्थ्य के साथ सामाजिक और आर्थिक दोनों लिहाज से ठीक नहीं है। नशे का आदी व्यक्ति समाज की दृष्टी से हेय हो जाता है और उसकी सामाजिक क्रियाशीलता शून्य हो जाती है, फिर भी वह व्यसन को नहीं छोड़ता है। ध्रूमपान से फेफड़े में कैंसर होता हैं, वहीं कोकीन, चरस, अफीम लोगों में उत्तेजना बढ़ाने का काम करती हैं, जिससे समाज में अपराध और गैरकानूनी हरकतों को बढ़ावा मिलता है। इन नशीली वस्तुओं के उपयोग से व्यक्ति पागल और सुप्तावस्था में चला जाता है। तम्बाकू के सेवन से तपेदकि, निमोनिया और साँस की बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इसके सेवन से जन और धन दोनों की हानि होती है।
एक सर्वे के अनुसार भारत में गरीबी की रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले लगभग 37 प्रतिशत लोग नशे का सेवन करते हैं। इनमें ऐसे लोग भी शामिल हैं जिनके घरों में दो जून रोटी भी सुलभ नहीं है। जिन परिवारों के पास रोटी−कपड़ा और मकान की सुविधा उपलब्ध नहीं है तथा सुबह−शाम के खाने के लाले पड़े हुए हैं उनके मुखिया मजदूरी के रूप में जो कमा कर लाते हैं वे शराब पर फूंक डालते हैं। इन लोगों को अपने परिवार की चिन्ता नहीं है कि उनके पेट खाली हैं और बच्चे भूख से तड़प रहे हैं।
इस अवसर पर देवभूमि चैरिटेबल ट्रस्ट की अध्यक्षा निरजा गोयल, कोषाध्यक्ष नूपुर गोयल, आचार्य संतोष व्यास, किरण कुकरेजा, भावना सिंधी, शैलेश जैन, अरविंद कुमार, देवेंद्र सिंह भाटी, सहित तमाम लोग उपस्थित थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close