शहर में खासस्वास्थ्य

एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत की अगुवाई में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स जम्मू योजना का विधिवत शिलान्यास!

देवभूमि जेकेन्यूज ऋषिकेश! बृहस्पतिवार को एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत की अगुवाई में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स जम्मू योजना का विधिवत शिलान्यास हो गया। गौरतलब है कि स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार द्वारा एम्स जम्मू व एम्स कश्मीर परियोजना के निर्माण एवं संचालन का जिम्मा एम्स ऋषिकेश को सौंपा गया है।
बृहस्पतिवार को बतौर मुख्य अतिथि केंद्रीय राज्यमंत्री डा. जितेंद्र सिंह ने विधिवत भूमि पूजन के साथ एम्स जम्मू की आधारशिला रखी। इस अवसर पर निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि भारत सरकार का उद्देश्य प्राथमिकता के आधार पर देश की जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराना है, इसी उद्देश्य से जम्मू और कश्मीर में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की स्थापना की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस परियोजना की कंसल्टेंसी एजेंसी सीपीडब्ल्यूडी को बनाया गया है, परियोजना की टेंडर प्रक्रिया बीते जनवरी माह में पूरी की जा चुकी है।

निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो.रवि कांत ने बताया ​कि उनकी प्राथमिकता एम्स जम्मू में इसी सत्र में अगस्त 2020 में एमबीबीएस प्रथम बैच की कक्षाएं शुरू कराना है। साथ ही बताया कि उनकी प्राथमिकता में जम्मू एम्स में नवंबर माह तक मरीजों के लिए ओपीडी सुविधा शुरू करना है,जिसके लिए परियोजना का निर्माण कार्य युद्धस्तर पर शुरू किया जाएगा। उन्होंने बताया ​कि एम्स ऋषिकेश द्वारा जम्मू एम्स में फैकल्टी रिक्रूटमेंट के लिए तैयारियां शुरू कर ली गई हैं,जिसके लिए संस्थान द्वारा संकाय सदस्यों के लिए जल्द विज्ञप्ति जारी की जाएगी। इसके बाद प्राथमिकता के आधार पर चयन प्रक्रिया सुनिश्चित की जाएगी। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि राज्यपाल जम्मू कश्मीर के सलाहकार राजीव राय भटनागर,जम्मू के सांसद जुगल किशोर शर्मा, एम्स ऋषिकेश के प्रो. यूबी मिश्रा, प्रो. शैलेंद्र हांडू, सीपीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर पीके दीक्षित, स्थानीय विधायक विक्रम सिंह रंधावा, पूर्व विधायक कमल सिंह आदि मौजूद थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

14 Comments

  1. Hi! I could have sworn I’ve been to this site before but after browsing through many of the articles I realized it’s
    new to me. Anyhow, I’m certainly pleased I discovered it and I’ll be book-marking it and checking
    back often!

  2. When someone writes an piece of writing he/she keeps the thought of a user in his/her mind
    that how a user can be aware of it. Therefore that’s why this piece of
    writing is perfect. Thanks!

  3. Great beat ! I would like to apprentice while you amend your site, how could i subscribe for
    a blog site? The account helped me a acceptable deal.
    I had been a little bit acquainted of this your broadcast offered bright clear idea

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close