ऋषिकेशक्राइम

355 ग्राम चरस, ₹38000 नगद के साथ चार अभियुक्त गिरफ्तार!

पुलिस को मिली बड़ी सफलता!

देवभूमि जे के न्यूज़!
170+185 (355) ग्राम चरस व चरस बेचकर कमाए ₹38,000/- (अडतीस हजार) रूपये नगद के साथ 4(चार) अभियुक्त गिरफ्तार,जनपद में नशे को जड़ से समाप्त करने हेतु व मादक पदार्थों/ अवैध चरस /गांजा आदि के तस्करों के विरुद्ध वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून के द्वारा लगातार अभियान चलाया जा रहा है।जिसके अनुपालन में पुलिस अधीक्षक देहात व क्षेत्राधिकारी ऋषिकेश के निर्देशन में प्रभारी निरीक्षक ऋषिकेश द्वारा थाना क्षेत्र में अलग-अलग पुलिस टीम बनाकर लगातार चेकिंग अभियान व संदिग्ध का सत्यापन किया जा रही है। इसी क्रम में ऋषिकेश पुलिस द्वारा पुराने नशा तस्करों के घरों में भी लगातार दबिश दी जा रही है। गठित पुलिस टीम द्वारा अलग-अलग जगह पर चैकिंग के दौरान अवैध रूप से चरस व उसको बेचकर कमाए हुए पैसों के साथ चार अभियुक्तों को 170+185 (355) ग्राम चरस के साथ गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की गई है। जिसका विवरण निम्न है।त्रिवेणी घाट, चौकी प्रभारी द्वारा गश्त के दौरान 72 सीढ़ी, हरिद्वार रोड के पास दो अभियुक्तों को अवैध 170 ग्राम चरस व ₹18,000/- नकद के साथ गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। अभियुक्तों के नाम महावीर पुत्र भरत सिंह निवासी- ग्राम पिनसोल थाना घनसाली, तहसील बालगंगा, टिहरी गढ़वाल,विजय पाल पुत्र फतेह सिंह निवासी ग्राम भरोवाडी, तहसील घनसाली, थाना घनसाली, टिहरी गढ़वाल।
उप निरीक्षक रघुवीर कपरवान द्वारा तहसील चौक पर चेकिंग के दो अभियुक्तों को अवैध 185 ग्राम चरस व ₹20,000/- नकद के साथ गिरफ्तार करने में सफलता मिली है।
अभियुक्तों के नाम मुकेश सिंह, पुत्र जेठू सिंह निवासी, सेलागांव, थाना भटवाड़ी, तहसील भटवारी उत्तरकाशी, विजय सिंह पुत्र विशाल सिंह, निवासी पिनस्वाद, तहसील घनसाली, टिहरी गढ़वाल,बरामदगी विवरण 170 ग्राम अवैध चरस,185 ग्राम अवैध चरस(355) ग्राम अवैध चरस48000/- रूपए नकद चरस बेचकर कमाए अभियुक्तो के विरुद्ध कोतवाली ऋषिकेश में एनडीपीएस की धारा 8/ 20 के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत किया गया है।अभियुक्तो को समय से न्यायालय के समक्ष पेश किया जाएगा!

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

20 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close