शहर में खासशिक्षा

पारंपरिक शिक्षा के साथ-साथ तकनीकी एवं आधुनिक शिक्षा भी दी जानी चाहिए-विधानसभा अध्यक्ष, उत्तराखंड


देवभूमि जे के न्यूज़ ऋषिकेश!
ऋषिकेश 5 फरवरी l पंजाब सिंध क्षेत्र इंटर कॉलेज के वार्षिक समारोह के अवसर पर मेधावी छात्र छात्राओं को पुरस्कार वितरण करते हुए मुख्य अतिथि के रुप में पहुंचे उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा है कि छात्र छात्राओं को पारंपरिक शिक्षा के साथ-साथ तकनीकी एवं आधुनिक शिक्षा भी दी जानी चाहिए इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने विद्यालय के फर्नीचर के लिए विधायक निधि से ₹ दो लाख देने की घोषणा भी की।
पंजाब सिंध क्षेत्र इंटर कॉलेज के वार्षिक समारोह के अवसर पर सरस्वती के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्वलित कर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने अपने संबोधन में कहा है कि भारतीय संस्कृति में गुरु शिक्षक परंपरा एक अनोखा उदाहरण है । उन्होंने कहा है कि गुरु शिष्य के हित के लिए हर प्रकार के त्याग के लिए तैयार रहते थे और इसी प्रकार शिष्य का दायित्व बनता था कि वह भी गुरु की भावनाओं के आगे समर्पित हो जाए।

उन्होंने कहा है कि इसी भावनाओं के अनुरूप विद्यार्थी आगे बढ़ता था और वह समाज व देश का निर्माता बनता था।
अग्रवाल ने कहा है कि ऋषिकेश में शासकीय विद्यालयों के भवनों को दुरुस्त करने के लिए शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारियों को निर्देशित किया जा चुका है ताकि आने वाले समय में कोई भी अप्रिय घटनाएं शासकीय विद्यालयों में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं के साथ ना हो ।
अग्रवाल ने इस अवसर पर विभिन्न कक्षाओं में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले छात्र छात्राओं को सम्मानित भी किया । और उन्होंने कहा है कि विद्यालयों में छात्रों के सुविधा के लिए वह हर प्रकार के सहयोग के लिए तैयार है । कार्यक्रम के अवसर पर छात्रों ने अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए ।
इस अवसर पर विद्यालय के पूर्व प्रबंधक सुरेश चंद शर्मा, प्रबंधक बृजेश शर्मा, विद्यालय के प्रधानाचार्य ललित किशोर शर्मा, श्री भरत मंदिर इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य मेज़र गोविंद सिंह रावत, ओमप्रकाश टुटेजा, डीबीपीएस रावत, हेमलता मेहर, भावना, पुनीता बर्थवाल, स्नेह लता शर्मा, मदनलाल, रविंद्र बहुगुणा, मनोज कुमार आदि सहित अनेक लोग उपस्थित थे । कार्यक्रम का संचालन पंकज अग्रवाल ने किया l

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

28 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close