ऋषिकेशधर्म-कर्म

*ऋषिकेश-महंत गुलाब सिंह जी महाराज की 53 वीं बरसी समागम डेरा ठाकरां में सौहार्द पूर्वक मनाई गई।*

देवभूमि जे के न्यूज़ ऋषिकेश 2 अक्टूबर 2022- डेरा ठाकरा ऋषिकेश के संस्थापक श्री 1008 महंत गुलाब सिंह जी महाराज की बरसी समागम 53 वीं बरसी समागम डेरा ठाकरां में सौहार्द पूर्वक मनाई गई। इस अवसर पर श्री पाठ श्री अखंड पाठ 30 सितंबर से शुरू हुआ और रविवार 2 अक्टूबर 2022 को श्री अखंड पाठ के उपरांत शब्द कीर्तन एवं दूरदराज से आए महापुरुषों के एवं संतों के प्रवचन किए गए। प्रवचन के पश्चात विशाल भंडारे का आयोजन किया गया।

संगत सेवक महंत बलवीर सिंह द्वारा विभिन्न जगहों से आए हुए संतों का माला पहनाकर एवं शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया गया।

इस अवसर पर देसी गौ रक्षाशाला हरिद्वार के संस्थापक अध्यक्ष महामंडलेश्वर ईश्वर दास जी महाराज ने कहा कि यह भारतवर्ष गुरु की व वीरों की तपस्थली है। हमारे देश के वीरों ने स्वतंत्रता दिलाने में अहम भूमिका निभाई। आज संत गुलाब सिंह जी के साथ साथ राष्ट्रपति महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की भी जयंती है। आज इस अवसर पर हमें इन महापुरुषों के बताए हुए पद चिन्हों पर चलने की आवश्यकता है। इस कलिकाल में जब जब सनातन धर्म पर प्रहार हुआ तब तब गुरु नानक जैसे महान संतों सहित अनेकानेक संतों का प्रादुर्भाव हुआ। आज शर्म की बात है कि लोग पश्चिमी देशों की नकल करते हुए सनातन धर्म को भूल रहे हैं। पारंपरिक वेशभूषा को छोड़कर पश्चिमी सभ्यता को अपना रहे हैं। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विषम परिस्थितियों में भारत के सनातन संस्कृति को बचाने में आगे आए हैं श्री राम मंदिर का निर्माण काशी विश्वनाथ मंदिर इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। आज हमारे संत का महानिर्वाण उत्सव मनाया जा रहा है उनके चरणों में भावभीनी पुष्पांजलि, श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

अवधूत बड़ा आश्रम के महंत महिमा नंद जी महाराज ने कहा कि हमारे संतो ने, गुरुओं ने जो राह दिखाया है उनके पगचिन्हों पर चलना चाहिए तभी हमारा जीवन सफल होगा। अपने जीवन में सेवा भाव को उतारें। संतो के कहे अनुसार यदि आप जीवन जीते हैं तो निश्चित रूप से जीवन सुखमय होगा। मैं संत श्री के चरणो में शत-शत नमन करता हूं।

संत भंडारा में प्रसाद ग्रहण करते संतवृंद।

इस अवसर पर महंत बलवीर सिंह महाराज ,महामंडलेश्वर ईश्वर दास जी महाराज, महंत महिमा नंद जी महाराज, केवलानंद जी, आचार्य कृष्णानंद जी, धर्मानंद जी महाराज, राजपाल खरोला, सूरज गुलाटी, संत सुखबीर सिंह, सरदार दर्शन सिंह, उमा ओबराय, तनवीर सिंह, गायत्री कौर, सरदार गोविंद सिंह सहित तमाम लोग उपस्थित थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close