Breaking NewsUNCATEGORIZEDदेश-विदेश

*इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच के दौरान मौत का तांडव-हिंसा में 127 लोगों की मौत,कई घायल*

डेस्क- इंडोनेशिया में शनिवार को एक फुटबॉल मैच के दौरान हुई हिंसा में कम से कम 127 लोग मारे गए हैं। घटना पूर्वी जावा के मलंग रीजेंसी के कंजुरुहान स्टेडियम में हुई। खबरों के मुताबिक अरेमा एफसी और पर्सेबाया सुरबाया के बीच मैच चल रहा था। इस बीच अरेमा की टीम हार गई। जिसके बाद अपनी टीम को हारता देख बड़ी संख्या में प्रशंसक मैदान की तरफ भागने लगे।
इस दौरान कुछ लोगों ने खिलाड़ियों पर हमला कर दिया। इस घटना से जुड़े कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। जिसमें दिख रहा है कि लोग मैदान पर घुस आए और सुरक्षाकर्मियों पर चीजें फेंकना शुरू कर दिया। साथ ही पुलिस लोगों को काबू करने के लिए लाठीचार्ज कर रही है और आंसू गैस के गोले छोड़ रही है।
स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लोगों की मौतें मारपीट, भगदड़ और दम घुटने से हुई हैं। वहीं स्टेडियम में मारे गए लोगों में दो पुलिस अधिकारी भी हैं। इस घटना में घायल हुए लगभग 180 लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि कितने लोग गंभीर रूप से घायल हैं। पूर्वी जावा के पुलिस अधिकारी निको अफिंटा ने मीडिया को बताया कि स्टेडियम के अंदर 34 लोगों की मौत हुई और बाकी की अस्पताल में मौत हुई।

बता दें कि इंडोनेशिया में Persebaya Surabaya ने Arema FC से फुटबॉल मैच 3-2 से जीता था. जिसके बाद Arema FC के हजारों फैंस खेल के मैदान में घुस गए और हिंसा शुरू कर दी. इसके बाद स्थानीय पुलिस और इंडोनेशियाई राष्ट्रीय सशस्त्र बल के सदस्य मैदान में एंटर हुए और Persebaya Surabaya के खिलाड़ियों की सुरक्षा की गई.

सुरक्षाकर्मियों और फैंस के बीच हुई झड़प-

मीडिया की रिपोर्ट है कि पिच पर सुरक्षा बलों और फैंस के बीच झड़पें हुईं. इस दौरान सुरक्षाकर्मियों पर फैंस ने चीजें फेंकना शुरू कर दिया. फिर भीड़ को काबू करने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल किया गया.
पीटी लीगा इंडोनेशिया बारू (LIB) के अध्यक्ष अखमद हदियन लुकिता (Akhmad Hadian Lukita) ने इंडोनेशिया में हुई इस हिंसक घटना पर कहा कि हम इस घटना से चिंतित हैं और गहरा खेद है. हम संवेदना जताते हैं और उम्मीद है कि यह हम सभी के लिए एक सबक होगा.

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close