UNCATEGORIZEDस्वास्थ्य

*एम्स में ब्रेस्ट कैंसर जनजागरूकता शिविर 1अक्टूबर से*

देवभूमि जे के न्यूज 30/09/2022-ऋषिकेश-
ब्रेस्ट कैंसर की समस्या से जूझ रही महिलाओं के लिए अच्छी खबर है। ऐसी महिलाओं के लिए एम्स ऋषिकेश में शनिवार 1 अक्टूबर से स्तन कैंसर स्वास्थ्य परीक्षण एवं जनजागरूकता शिविर का आयोजन किया जा रहा है। यह शिविर एम्स के एकीकृत महिला कैंसर केन्द्र में आयोजित होगा।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश के शल्य चिकित्सा विभाग और कॉम्युनिटी व फेमिली मेडिसिन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित होने वाले स्तन कैंसर स्वास्थ्य परीक्षण एवं जनजागरूकता शिविर में इस बीमारी से ग्रसित महिलाओं का स्वास्थ्य परीक्षण करने के साथ-साथ उन्हें स्तन कैंसर से संबंधित विभिन्न महत्वपूर्ण जानकारियां दी जाएंगी। साथ ही इस रोग से संबंधित मामलों की जांच प्रक्रिया के तहत उनकी स्क्रीनिंग भी की जाएगी।

शिविर के बाबत जानकारी देेते हुए एकीकृत महिला कैंसर केन्द्र के प्रभारी व जनरल सर्जरी विभाग के वरिष्ठ शल्य चिकित्सक डॉक्टर फरहान उल हुदा ने बताया कि शिविर में पहुंचने वाली महिलाओं को अस्पताल में अपने पंजीकरण के लिए एम्स के एकीकृत महिला कैंसर केन्द्र (आईबीसीसी) में आना होगा। यह पंजीकरण दैनिक तौर पर सुबह 8.30 बजे से शुरू होगा। उन्होंने बताया कि शिविर का संचालन अवकाश के दिनों को छोड़कर अन्य सभी कार्य दिवसों में 10 अक्टूबर तक लगातार जारी रहेगा। शिविर का समय सुबह 9 बजे से 11 बजे तक रखा गया है। उल्लेखनीय है कि एम्स ऋषिकेश में स्तन कैंसर की समस्या से जूझ रही महिलाओं की समस्या के समाधान के लिए एक विशेष यूनिट स्थापित की गयी है। एकीकृत महिला कैंसर केन्द्र (आईबीसीसी) के नाम से संचालित इस यूनिट में विशेष तौर से महिलाओं के स्तन कैंसर की समस्याओं का समुचित उपचार किया जाता है। 1 अक्टूबर से आयोजित होने जा रहे शिविर में ऐसे मरीजों व उनके तीमारदारों को स्तन कैंसर के कारण, लक्षण, बचाव व स्तन कैंसर स्व परीक्षण करने की विस्तृत जानकारी भी दी जाएगी। विभाग की ओर से इस संबंध में 87913 35452 हेल्पलाइन नम्बर भी जारी किया गया है।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close