Breaking NewsUNCATEGORIZEDअपराध

*ब्रेकिंग न्यूज-30 किलोमीटर तक सड़क पर अंधाधुंध फायरिंग करने वाले चारों आरोपी 50घंटे बाद गिरफ्तार*

डेस्क- मंगलवार को बेगूसराय गोलीकांड में लगभग 50 घंटे के बाद पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पुलिस की मानें तो इस गोलीकांड में शामिल चारों आरोपियों को अलग अलग जगह से पकड़ा गया है। साथ ही में गोलीकांड में इस्तेमाल बाइक को भी जब्त कर लिया गया है।

पुलिस के अनुसार गोलीबारी में शामिल बेगूसराय के बीहट का केशव कुमार उर्फ नागा जमुई के झाझा स्टेशन से मौर्य एक्सप्रेस ट्रेन से रांची भागने की फिराक में पुलिस के हत्‍थे चढ़ा। सूत्रों के अनुसार उसने कांड में संलिप्‍तता स्‍वीकार कर ली है। उसे गोलीकांड के अन्य आरोपितों सुमित, युवराज व अर्जुन की निशानदेही पर पकड़ा गया। हालांकि, पुलिस ने अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है

एसपी करेंगे पूरा खुलासा-

सूत्र बताते हैं कि गिरफ्तार केशव को लेकर पुलिस देर रात बेगूसराय लेकर पहुंच गई है। उधर, पुलिस ने गुरुवार की दोपहर बाद दो आरोपितों को बेगूसराय के साहेबपुर कमाल थाना क्षेत्र से और दो को नगर थाना क्षेत्र के व्यवहार न्यायालय के पास से उठाया था। गोलीकांड में दो बाइक पर सवार चार अपराधी शामिल बताए गए थे। अब इनमें से एक की झाझा से गिरफ्तारी के बाद जाहिर है कि हिरासत में लिए गए चार संदिग्धों में एक इस मामले में शामिल नहीं है। संभावना है कि आज एसपी योगेंद्र कुमार गोलीकांड में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी की आधिकारिक जानकारी देंगे।

बड़ा सवाल- कहां दुबके थे बदमाश?

एसपी ने इस मामले में बाइक सवार अपराधियों के जिले में ही छिपने की बात कही थी। उन्‍होंने अपराधियों के राजेंद्र पुल पार नहीं करने का दावा करते हुए कहा था कि वे पुल के पहले ही किसी दूसरे रास्ते से फरार हुए। अब एक अपराधी के जमुई के झाझा से गिरफ्तारी और चार संदिग्धों के हिरासत में लिए जाने लेने के बाद उनके दावे पर सवाल उठ रहे हैं। सवाल यह भी कि घटना के 48 घंटे तक वे लोग कहां छिपे थे? जिले से बाहर किस रास्ते से गए या जिले में कहां दुबके थे?

क्राइम सीन रीक्रियेट ने किया पूछताछ-

इसके पहले गुरुवार की शाम एसपी योगेंद्र कुमार हिरासत में लिए गए संदिग्धों को लेकर गोधना गांव के समीप स्थित एक घटनास्थल पहुंचे और उनसे पूछताछ की और क्राइम सीन को रीक्रिएट कराया। इससे पहले डीआइजी सत्यवीर सिंह ‘यस वी आर क्लोज” कहकर अपराधियों का सुराग मिलने का इशारा कर चुके थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close