उत्तराखण्ड

*एसआरएचयू के छात्रों ने तिरंगा हाथों में लेकर निकाली प्रभात फेरी*

*-आज़ादी का अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में एसआरएचयू में प्रभात फेरी आयोजित* *-एसआरएचयू के विभिन्न कॉलेजों के सैकड़ों छात्र-छात्राएं हुए शामिल, देश-प्रेम के लगाए नारे*

देवभूमि जे के न्यूज,13-AUG-2022-

डोईवाला- आज़ादी का अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय (एसआरएचयू) जॉलीग्रांट की ओर से प्रभात फेरी का आयोजन किया गया। इसमें विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों के सैकड़ों छात्र-छात्राएं सहित स्टाफकर्मी शामिल हुए। करीब पांच किमी. की प्रभात फेरी के दौरान छात्र-छात्राओं ने तिरंगा हाथों में लेकर देश-प्रेम के नारे लगाए।
एसआरएचयू के कुलपति डॉ.विजय धस्माना ने कहा कि आज़ादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक पहचान को दर्शाता है। सभी को पूरे हर्ष के साथ इस महोत्सव को मनाना चाहिए। डॉ.धस्माना ने बताया कि इस महोत्सव को लेकर विश्वविद्यालय में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जा रह हैं। इसी कड़ी में आज विश्वविद्यालय में प्रभात फेरी का आयोजन किया गया। इसमें विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों से मेडिकल, नर्सिंग, पैरामेडिकल, मैनेजमेंट, इंजीनियरिंग, योग विज्ञान, बायो साइंसेज सहित वोकेशनल स्टडीज के सैकड़ों छात्र-छात्राएं शामिल हुए। प्रभात फेरी का आयोजन विश्वविद्यालय के ट्यूबवेल चौक से किया गया। प्रभात फेरी में देश पर सर्वोच्च बलिदान देने वाले दर्जनों देशभक्तों को याद किया गया। इसके बाद तीन टुकड़ियों में छात्र-छात्राएं व स्टाफकर्मी आस-पास के विभिन्न क्षेत्रों में देशप्रेम के नारे लगाते हुए गए। करीब पांच किमी. प्रभात फेरी के आयोजन के दौरान छात्र-छात्राओं में देश-प्रेम का जोशीला अंदाज देखा गया। देशभक्ति एवं राष्ट्रप्रेम को प्रेरित करने वाली प्रभात फेरी जिस रास्ते गुजरी वहां पर स्थानीय लोगों में भी छात्र-छात्राओं के साथ विशेष उत्साह देखा गया। इस दौरान प्रति कुलपति डॉ.विजेंद्र चौहान, डॉ.सुनील सैनी, डॉ.विनीत महरोत्रा सहित विभिन्न कॉलेजों के प्रिसिंपल व फैकल्टी मौजूद रहे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close