Breaking News

*ऋषिकेश -चंद्रेश्वर नगर श्मसान घाट में चिता जलाने के दौरान जमकर चले पत्थर- कई घायल- कोतवाली में मुकदमा दर्ज*

देवभूमि जे के न्यूज, 28/07/2022- कोतवाली ऋषिकेश क्षेत्र के अंतर्गत जलती चिता को बुझाने और उस पर पत्थर बरसाने के आरोप में पुलिस ने पार्षद पति सहित अन्य लोगों पर विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

चंद्रेश्वर मंदिर के मुख्य पुजारी भवानी चंद कलाउनी की माता का देहांत हो जाने पर उनका अंतिम संस्कार चंद्रेश्वर स्थित श्मशान घाट पर किया जा रहा था। कोतवाली में पंडित लल्लन झा पुत्र स्व. बच्ची झा निवासी बीस बीघा और प्रवीण कुमार खंडूरी पुत्र लक्ष्मण प्रसाद निवासी बीस बीघा ने तहरीर दी। बताया कि पंडित भवानी जी की माता के अंतिम संस्कार में गंगा किनारे गए थे।उन्होंने आरोप लगाया कि नगर निगम के पार्षद पति किशन मंडल अपने अन्य साथियों के साथ वहां आ धमके और अंतिम संस्कार करने से मना करने लगे। साथ ही चिता को बुझाने का प्रयास करने लगे। जब विरोध किया तो पत्थर से चिता को बुझाने लगे। आरोप लगाया कि इसी बीच किशन मंडल ने धारदार हथियार लेकर आया और लोहे से पंडितों पर वार किया। जिसके चलते वह बेहोश हो गए। अस्पताल में उन्हें होश आया। उन्होंने पुलिस को जान से मारने के इरादे से हमला करने का आरोप लगाया, तथा कठोर कार्रवाई की मांग की।

पुलिस के अनुसार आरोपी पार्षद पति किशन मंडल सहित अन्य लोगों पर विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।
अंतिम संस्कार में शामिल लोगों के अनुसार दो तीन लोग गंगा किनारे बैठे हुए थे, उन्होंने वहां अंतिम संस्कार करने से मना किया। परंतु ब्राह्मणों ने कहा कि परंपरा के अनुसार हम गंगा तट पर ही अंतिम संस्कार करते हैं और हम संस्कार यही पे करेंगे। इस बीच बात बढ़ती गई और उन लोगों ने फोन करके अपने साथियों को बुलाया और फिर पत्थर बाजी, लाठी डंडे का तांडव शुरू हुआ किसी तरह से संस्कार में आए लोगों ने भाग कर अपनी जान बचाई। पुलिस को इस आशय की सूचना दी गई।मौके पर पहुंची पुलिस के देखरेख में भवानी पंडित के माता जी का अंतिम संस्कार किया गया।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close