ऋषिकेश

*गढ़ सेवा संस्थान ऋषिकेश ने युवाओं को दी अग्निपथ योजना की विस्तृत जानकारी*

देवभूमि जे के न्यूज 2206/2022-ऋषिकेश-
गढ़ सेवा संस्थान ऋषिकेश (पंजीकृत) द्वारा रेलवे रोड स्थित एक सभागार में युवाओं के साथ एक बैठक आयोजित की। बैठक में अग्निपथ में भर्ती के लिए किए जा रहे दुष्प्रचार पर विस्तार से चर्चा की गई। समाचार पत्रों, सोशल मीडिया के माध्यम से किए गए दुष्प्रचार के विषय में उपस्थित वक्ताओं ने युवाओं एवं युवतियों के शंकाओं का विस्तार से समाधान किया।

अध्यक्ष देवेन्द्र सिंह नेगी ने जानकारी देते हुए कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जल्द ही अग्निपथ योजना के लिए भर्ती शुरू की जाएगी. अग्निपथ योजना के तहत एलिजिबिलिटी क्राइटिरिया कुछ इस प्रकार है-

अग्निपथ के लिए 17.5 साल से 23 साल के बीच के उम्मीदवार आवेदन कर सकेंगे।

आवेदन करने वाले युवा कम से कम 50 फीसदी नंबरों के साथ 12वीं पास होने चाहिए।

भर्ती होने वाले युवाओं को छह महीने तक ट्रेनिंग दी जाएगी. इसके बाद 3.5 साल तक सेना में सर्विस देनी होगी।
भर्ती के लिए अन्य क्राइटीरिया को जल्द ही सरकार द्वारा जारी कर दिया जाएगा।
अग्निपथ योजना सशस्त्र बलों की तीन सेवाओं में कमीशन अधिकारियों के पद से नीचे के सैनिकों की भर्ती के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक नई योजना है। इसकी घोषणा 16 जून 2022 को की गई।इस योजना के तहत सेना में शामिल होने वाले जवानों को ‘अग्निवीर’ के नाम से जाना जाएगा।
योजना के तहत शुरुआती वेतन 30,000 रुपये दिया जाएगा जोकि सर्विस के चौथे साल तक बढ़ाकर 40 हजार रुपये तक हो जाएगा। सेवा निधि योजना के तहत सरकार वेतन का 30 फीसदी हिस्सा सेविंग के रूप में रख लेगी। साथ ही इसमें वह भी इतना ही योगदान करेगी। चार साल बाद सैनिकों को 10 लाख से 12 लाख रुपये दिए जाएंगे। ये पैसा टैक्स फ्री होगा। योजना के तहत भर्ती होने वाले युवाओं को कश्मीर और देश के अलग-अलग हिस्सों में तैनात किया जाएगा।


रविन्द्र राणा ने कहा कि अग्निपथ योजना एक ऐसी योजना है जिसके अंतर्गत हमारे देश कि रक्षा करने बाली सेना को 4 वर्ष की अवधि के लिए रखा जायेगा और जिसके तहत
अग्निवीरों को मासिक वेतन के साथ हार्डशिप अलाउंस, यूनिफॉर्म अलाउंस, कैंटीन और मेडिकल सुविधा दी जाएगी. अग्निवीरों को ट्रैवल अलाउंस भी मिलेगा। बेवसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार, उन्हें वही सुविधाएं मिलेंगी जो कि एयरफोर्स के एक नियमित सैनिक को मिलती है। साल में 30 दिन की छुट्टी मिलेगी. उन्हें मेडिकल लीव अलग से दिया जाएगा। हालांकि, यह मेडिकल चेकअप पर निर्भर करेगा।
अग्निपथ योजना के तहत चयन प्रक्रिया 24 जून से शुरू हो जाएगी। 2022 के लिए अग्निपथ योजना के तहत इंडियन एयरफोर्स में भर्ती किए जाने वालों की उम्र सीमा बढ़ा कर 23 वर्ष कर दी गई है।
नई योजना के तहत 4 साल के सर्विस के दौरान करीब 2.5 महीने से 6 महीने तक के प्रशिक्षण की अवधि होगी।
चार साल की सर्विस के दौरान अगर अग्निवीर की मृत्यु होती है तो बीमा कवर मिलेगा, जिसके तहत उसके परिवार को करीब 1 करोड़ की आर्थिक सहायता ​दी जाएगी।
अग्निवीरों को 30-40 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन मिलेगा।
ड्यूटी के दौरान विकलांग होने पर एक्स-ग्रेशिया 44 लाख रुपये मिलेंगे। साथ ही जितनी नौकरी बची है, उसकी पूरी सैलरी मिलेगी और सेवा निधि पैकेज भी मिलेगा।
अग्निवीरों का कुल 48 लाख का इंश्योरेंस होगा. ड्यूटी में रहते शहीद होने पर एकमुश्त सरकार की तरफ से 44 लाख दिए जाएंगे और सेवा निधि पैकेज अलग रहेगा. इसके अलावा जितनी नौकरी बची है उसकी पूरी सैलरी मिलेगी।
केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (CAPF) और असम राइफल्स में होने वाली भर्तियों में 10 फीसदी सीटें ‘अग्निवीरों’ के लिए रिज़र्व होंगी. इसके अलावा, गृह मंत्रालय ने CAPF और असम राइफल्स में भर्ती के लिए ‘अग्निवीरों’ को ऊपरी आयु सीमा में छूट दिए जाने की भी घोषणा की है।
अग्निपथ योजना के माध्यम से भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय वायु सेना के लिए लगभग 46,000 सैनिकों की भर्ती की जानी है। अग्निपथ योजना के तहत महिलाओं की भर्ती संबंधित सेवाओं की जरूरतों पर निर्भर करेगी।भारी विरोध के बाद सरकार का फैसला, पहले बैच में 23 साल तक के युवा बन सकेंगे अग्निवीर, 24 जून से शुरू होगी भर्ती की प्रक्रिया।


इस अवसर पर अध्यक्ष देवेंद्र सिंह नेगी, महासचिव रविंद्र राणा, उपाध्यक्ष राजेंद्र नेगी, कोषाध्यक्ष गोपाल सती, सदस्यों में मनोज ध्यानी, सुमित पंवार, दिनेश पयाल, अरुण बडोनी, राजवीर सिंह रावत, भगवती प्रसाद रतूड़ी के साथ ही दीपाली वर्मा, सूरज, मोनिका, सौरभ भट्ट, बबीता ,सोनाली, अभिषेक, रोहित ,राहुल ,सुभाष ,राजेंद्र कुमार, अभिषेक कुमार, अंकित कुमार सहित तमाम लोग मौजूद थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close