ऋषिकेश

*शिक्षा और स्वास्थ का मार्ग प्रशस्त करने के लिए बेहतर सड़कें जरूरी-अनिता ममगाई*

*महापौर की मांग के बाद लोनिवि ने गंगानगर में शुरू किया सड़क निर्माण कार्य शुरू* *42.90 लाख की लागत से बनेगी 2.1 किमी सड़क*

देवभूमि जे के न्यूज 27/05/2022-

ऋषिकेश- नगर निगम महापौर अनिता ममगाई ने कहा कि सड़कें विकास का आइना होती हैं। बिना इनके विकास संभव नहीं है। निगम का शहरी क्षेत्र हो या ग्रामीण क्षेत्र विकास ही हमारा कर्तव्य है। सड़क का निर्माण होने से लोग मूलभूत सुविधाओं से जुड़ जाएंगे। क्योंकि सड़क की भागीदारी विकास में सहायक होती है।
उक्त विचार महापौर ने गंगानगर क्षेत्र में लोक निर्माण विभाग द्वारा उनकी मांग के बाद 42.90 लाख की लागत से बनवायी जा रही तकरीबन 2 किमी सड़क के शुभारंभ मौके पर व्यक्त किए। एस डी बी सी द्वारा शुरू हुए सड़क के निरीक्षण के लिए पहुंची महापौर का इस मौके पर क्षेत्रवासियों द्वारा आभार भी जताया गया। इस दौरान उन्होंने क्षेत्रवासियों की जन समस्याओं को भी सुना और अनेकों जन समस्याओं का अधिकारियों को फोन लगाकर मौके पर ही निस्तारण भी करा दिया। इस दौरान क्षेत्र की सफाई व्यवस्था को लेकर जहाँ उन्होंने सफाई हवलदारों को आवश्यक निर्देश दिए वहीं गंगा नगर हनुमंतपुरम क्षेत्र के सम्पर्क गलियों के निर्माण की मांग पर शासन से धन की स्वीकृति मिलते ही निर्माण की बात कही। क्षेत्रवासियो द्वारा गलियों में जगह जगह वाहनों के पार्क होने से आवागमन की समस्या में अवरोध उत्पन होने की बात सामने आने पर उन्होंने इस और पुलिस प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराने का आश्वासन दिया।
उन्होंने कहा कि बाजारों से सम्पर्क के लिए प्रत्येक क्षेत्र में अच्छी सड़कों का होना बेहद जरूरी है। सड़क से ही शिक्षा और स्वास्थ का मार्ग प्रशस्त होगा। बहुत दिनों से क्षेत्र के लोग सड़क की मांग कर रहे थे। आज आप की मांग पूरी हो रही है। इस दौरान सहायक नगर आयुक्त आनंद मिश्रवाण, पी डब्लू डी से जेई उपेंद्र गोयल, स्थानीय पार्षद उमा बृजपाल राणा, बृजपाल राणा, मुरलीधर चमोली, एम एम थपलियाल, आशीष झाम्ब, मनमोहन भट्ट, पन्नालाल, लक्ष्मी वर्गी रियाल, सुधा चमोली, जीआर भट्ट, बी एस रावत, आर डी गोनियाल, एच एस भंडारी, मनोज डोबरियाल, प्रेम दत्त बिजलवान आदि मोजूद रहे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close