व्यक्ति विशेष

*शहीद श्रीदेव सुमन उत्तराखंड की अमूल्य धरोहर-अनिता ममगाई*

देवभूमि जे के न्यूज 25/05/2022-

ऋषिकेश- टिहरी जनक्रांति के नायक शहीद श्रीदेव सुमन के जन्मोत्सव पर नगर निगम के स्वर्ण जंयती सभागार में उनका भावपूर्ण स्मरण किया गया।

बुधवार की शांम पर्वतीय लोक कल्याण परिषद के तत्वावधान में आयोजित गोष्ठी का शुभारंभ उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर किया गया। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत करते हुए महापौर अनिता ममगाई ने कहा कि अमर शहीद श्रीदेव सुमन के आदर्शों पर चलकर ही हम जीवन में आगे बढ़ सकते हैं।अपने सम्बोधन में उन्होंने उनके विचारों, मूल्यों और सिद्धांतों को आगे बढ़ाने पर जोर दिया। कहा कि ,टिहरी की जनता को राजशाही से मुक्त कराने में श्रीदेव सुमन का अभूतपूर्व योगदान रहा है। श्रीदेव सुमन जैसे अमर शहीदों की गाथा मात्र किताबों तक ही सिमट कर नही रहनी चाहिए। आज जरूरत उनके विचारों के अनुसरण करने की है।महापौर ने कहा कि श्री देव सुमन हमारी धरोहर भी हैं। हम सभी को महापुरुषों की जयंती एवं पुण्यतिथि पर उपस्थित होकर अपने विचारों को रखना चाहिए ताकि आने वाली पीढ़ियां भी ऐसे महान जननायक को उनके त्याग समर्पण तपस्या को सदैव याद रख कर अपने राष्ट्र के लिए अपने अधिकारों के लिए लड़ने की प्रेरणा दे सकें। गोष्ठी के दौरान श्री देव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय परिसर, ऋषिकेश में उत्तराखंड के जन नायक श्रीदेव सुमन की जंयती पर उनको पूरी तरह से भुला देने की पुरजोर शब्दों में निंदा करते हुए । इस गंभीर मामले को प्रदेश के शिक्षा मंत्री के समक्ष उठाकर महाविद्यालय प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कारवाई का निर्णय लिया गया। गोष्ठी में
मदन शर्मा, रमेश चंद्र शर्मा, प्यारेलाल जुगलान, बृजपाल राणा, आशा राम व्यास ,विक्रम भंडारी, सत्यप्रकाश ममगाईं, सुरेंद्र सिंह कैंतूरा, कुसुम लता शर्मा, कलावती, मंजू बडोला, मानसिंह, सतीश शर्मा, अशोक, जया डोभाल,मंजू भट्ट, हरि सिंह नेगी, रुक्म पोखिरियाल, दीपक दरगन, सुरेन्द्र भण्डारी आदि उपस्थित रहे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close