उत्तराखण्डव्यक्ति विशेषसाहित्य सृजन।

*जनकवि डाक्टर अतुल शर्मा की कविताओ का एक आकर्षण कविता पोस्टर का हुआ विमोचन*

देहरादून-आज विश्व कविता दिवस पर प्रसिद्ध जनकवि डाक्टर अतुल शर्मा की कविताओ के साथ युवा पीढी ने उनकी कविता का एक आकर्षण कविता पोस्टर तैयार किया । साथ ही इसका विमोचन व वाचन भी किया गया ।
धरातल संस्था की पदाधिकारी कवयित्रि रंजना शर्मा ने बताया कि आज दिन मे तीन बजे डा अतुल शर्मा की कविता ” घर कविता का ” पोस्टर के रुप मे प्रस्तुत की ग ई जिसे वरिष्ठ चित्रकार राजेन्द्र लाल ने बनाया है ।सबसे पहले बंजारावाला मोनाल एनक्लेव मे एक गोष्ठी मे युवा साहित्कारो के अनुरोध पर डा अतुल शर्मा ने कविताये और अपने लिखे जनगीत प्रस्तुत किये । उन्होंने पोस्टर पर लिखी कविता प्रस्तुत की_” कविता के दरवाज़े/ हमारे अन्दर फडफडाते है/ कविता के दरवाजे पर ताला नही लगता/ कविता के घर पर नदी भी आ सकती है/ आप भी आ सकते है/ कविता के घर पर/ दोस्तों मेरी कविता को अपना ही घर समझो ” ।
साथ ही लोगो के अनुरोध पर उन्होंने अपने जनगीत प्रस्तुत किये जिनमे मुख्यत: ” हम बंजारे ” जनगीतों का वातावरण चाहिये ” नदी तू बहती रहना ” शामिल है । उनके साथ लोगो ने भी इसे दोहराया ।
युवा रचनाकारो मे शुभांगी दीप्ति अंजु अंशु गैरोला रोहित थपलियाल आदि शामिल हुए । उन्होंने ने भी अपनी रचना प्रस्तुत की ।
अंत मे संस्था की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने सभी को विश्व कविता दिवस पर शुभकामनाएं दी ।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close