पौड़ी

*यमकेश्वर- वरिष्ठ भाजपा नेता हेमंत बहुखंडी को क्षेत्रीय, जनप्रतिनिधियों- निवासियों ने निर्दलीय लड़ने का किया अनुरोध*

यमकेश्वर-कठीन भौगोलिक इलाके वाली पौड़ी जिले की यमकेश्वर विधानसभा में राज्य गठन के बाद से कांग्रेस पार्टी आज तक अपना खाता नहीं खोल पाई है। प्रदेश में हुए पिछले चार विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी को इस विधानसभा में करारी हार का सामना करना पड़ा है। तीन बार विजया बड़थ्वाल एवं एक बार रितु खंडूरी ने इस पर क्षेत्र से जीत दर्ज की है। इस बार 3 प्रत्याशी ठाकुर जाति के है, बीजेपी, कांग्रेस ने भी इस बार ठाकुरों को टिकट देकर इस क्षेत्र के ब्राह्मण वोटरों को निराश किया है। बीते सालों से भरोसा फाउंडेशन के संस्थापक अध्यक्ष एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता हेमंत बहुखंडी ने सक्रियता से पूरे यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्र में अपनी चुनावी तैयारी को अंजाम दिया था। जगह-जगह सभी के सुख दुख में सामाजिक सरोकार से जुड़े कामों में जी जान से लगे हुए थे। पार्टी के शीर्ष नेताओं द्वारा उनके कार्यों को देखते हुए टिकट देने की बात कही थी और उन्हें आश्वस्त किया था कि इस बार आप को ही टिकट मिलेगा।

यमकेश्वर विधानसभा के तमाम मतदाताओं को यह लग रहा था कि इस बार हेमंत बहुखंडी इस क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे और फिर इस बार जीत का परचम भाजपा लगाएगी। परंतु अंतिम समय में हेमंत बहुखंडी को पार्टी ने टिकट नहीं दिया। आज भारी संख्या में क्षेत्र के क्षेत्र पंचायत सदस्य, क्षेत्र प्रमुख, जिला प्रमुख, प्रधानों का एक समूह हेमंत बहुखंडी से मिलकर उन्हें निर्दलीय चुनाव लड़ने के लिए अनुरोध किया। इस अनुरोध को हेमंत बहुखंडी ने सिरे से खारिज कर दिया और पार्टी द्वारा लिए गए निर्णय को स्वीकार बताते हुए कहा कि पार्टी ने मुझे टिकट नहीं दिया परंतु मैं पार्टी के विरुद्ध नहीं जा सकता हूं।
अब देखने वाली बात यह है क्या पांचवी बार भाजपा इस सीट से जीत का हैट्रिक बनाएगी या एक बार भी जीत का मुंह ना देखने वाली कांग्रेस की झोली में यह सीट जाएगी। तमाम तरह की चर्चाएं यमकेश्वर विधानसभा में लोगों के बीच चल रही है, देखे चुनाव के बाद ऊंट किस करवट बैठता है।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close