उत्तराखण्डशहर में खाससाहित्य सृजन।

*काव्य गोष्ठी-गढवाली काव्य गोष्ठी का ऑनलाइन हुआ आयोजन*

हिंदी दिवस के अवसर पर 10 जनवरी, 2022 को हिंदी साहित्य भारती (अन्तर्राष्ट्रीय) जनपद पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखंड के तत्वाधान में एक गढवाली काव्य गोष्ठी का ऑनलाइन आयोजन किया गया, जिसका सफल ऑनलाइन मंच संचालन जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान चड़ीगांव पौड़ी (डायट ) के प्रवक्ता जगमोहन कठैत जी द्वारा किया गया। जिसका मुख्य उद्देश्य अपने पहाड़ उत्तराखण्ड की बोली भाषा को संजोने और उसे इस्तेमाल करने पर फोकस किया गया।

इस कार्यक्रम को सफल बनाने में मुख्य भूमिका पौड़ी जिले के हिन्दी साहित्य भारती परिवार के जिला अध्यक्ष श्री दिनेश चंद्र पाठक जी एवं जिला महामंत्री श्री रोशन बलूनी जी, एवं प्रदेश महामंत्री डा. कविता शैल पुत्री भट्ट जी रहे। जिन्होने कार्यक्रम का ताना बाना जोड़ते हुए इस काव्य गोष्ठी के सदस्यों को चुनकर आमंत्रित किया।

कार्यक्रम में और भी चार चांद लग गए जब मुख्य अतिथि के रूप में श्री जनार्दन बुडाकोटी जी, विशिष्ठ अतिथि डाक्टर सुनील दत्त थपलियाल जी, विशेष उपस्थिति श्री प्रतिबिंब बड़थ्वाल जी ने अपना अमूल्य समय देकर सभी का हौसला बढ़ाते हुए अपनी रचनाओं एवं विचारों से सभी के दिलों में एक अमिट छाप छोड़ दी।

हिंदी साहित्य भारती अंतर्राष्ट्रीय की प्रदेश महामंत्री डाक्टर कविता भट्ट शैलपुत्री जी, श्रीमती सरिता मैंदोला जी, श्री शिव दयाल शैलज जी, श्रीमती साइन कृष्ण उनियाल जी, श्रीमती अंशी कमल जी, श्रीं सुधीर डोबरियाल जी, श्री विकास उनियाल जी, श्री जसवंत सिंह राणा जी, प्रीति सेमवाल जी,पल्लवी नौटियाल जी, सभी ने अपनी,अपनी गढ़वाली काव्य पाठ, गढ़वाली गजल, गढ़वाली हास्य पाठ, एवं गढ़वाली सरस्वती वंदना अपने स्वरों में रचनाओं की प्रस्तुति देते हुए इस कार्यक्रम में मुख्य भूमिका निभाते हुए चार चांद लगा दिए।

पौड़ी जिले के साथ ही साथ अन्य जिलों जैसे टीहरी, देहरादून, रामनगर, हल्द्वानी यहां तक कि बाहरी राज्यों में बसे उत्तराखंड प्रेमियों ने भी काव्य गोष्ठी में अपनी प्रतिभागिता बनाईं।

कार्यक्रम ऑनलाइन शांय 7 बजे से शुरू होकर 9.40 तक लगभग ढ़ाई घंटे चला हिंदी साहित्य भारती अन्तर्राष्ट्रीय जनपद पौड़ी उत्तराखंड, सभी सुनने और देखने वाले विद्वान जनों जो अपनी बोली भाषा से प्रेम करते हैं और जिन्होने इस काव्य गोष्ठी का ऑनलाइन फेस बुक के माध्यम से आनंद लिया और इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि, विशिष्ठ अतिथि, विशेष उपस्थिति एवं काव्य गोष्ठी में अपनी रचनाओं को प्रस्तुत करने वाले सभी विद्वान जनों का हृदय की गहराइयों से आभार और धन्यवाद ज्ञापित करते हुए सभी के उज्ज्वल भविष्य की कामना करती हैं।

यह काव्य गोष्ठी अभी भी देखने और सुनने के लिए हिंदी साहित्य भारती पौड़ी के जिला अध्यक्ष दिनेश चंद्र पाठक के फेस बुक पेज पर सुरक्षित मिलेगी।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close