ऋषिकेशधर्म-कर्म

*त्याग, बलिदान एवं दृढ़ संकल्प का अद्भुत रुप हैं गुरु गोविंद सिंह जी महाराज-अनिता ममगाई*

ऋषिकेश-गुरु गोविंद सिंह जी महाराज का प्रकाशोत्सव तीर्थ नगरी ऋषिकेश में बेहद हर्षोल्लास व श्रद्धाभाव के साथ मनाया गया।इस अवसर पर नगर निगम महापौर अनिता ममगाई ने गुरुद्वारे में मत्था टेक शहर की खुशहाली के लिए अरदास करायी। प्रकाशोत्सव के अवसर पर लक्ष्मण झूला मार्ग स्थित गुरुद्वारा श्री हेमकुंट साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट में हजारों श्रद्धालु पहुंचे। जिन्होंने गुरु के चरणों में मत्था टेककर अरदास की। रविवार को सुबह से ही श्रद्धालुओं की कतार गुरुद्वारे में लग गई। इसके साथ ही अटूट लंगर शुरू हो गया, जो दिनभर जारी रहा।

रविवार को गुरु गोविंद सिंह जी महाराज के पावन प्रकाश उत्सव के उपलक्ष्य में गुरुद्वारे पहुंची महापौर का
गुरूद्वारे परिवार की और से अभिनंदन किया गया।इस अवसर पर महापौर ने कहा कि जब भी धर्म पर संकट आया महापुरुषों ने जन्म लेकर उसकी रक्षा की।गुरु गोविंद सिंह जी का सिख धर्म में अमूल्य योगदान है। वे सत्य और धर्म की रक्षा के मार्ग पर चलने वाले सच्चे दिव्यात्मा थे। उन्होंने कहा त्याग और बलिदान के साथ ही दृढ़ संकल्प का अद्भुत रूप गुरू गोविंद सिंह जी में था। गुरू गोबिंद सिंह में गुरू नानक देव जी की दसवीं ज्याेति प्रकाशमयी हुई। जिस वजह से इन्हें दसवीं ज्योति भी कहा जाता है। उन्होंने गुरु की महिमा का बखान कर समाज को उनके बताए रास्ते पर चलने का आह्वान भी किया।इस अवसर पर गुरूद्वारे के उपाध्यक्ष सरदार नरेंद्र जीत सिंह बिन्द्रा, दर्शन सिंह, विजय बडोनी, मंगा सिंह,
अजीत सिंह गोल्डी, गुरविंदर सिंह,शकुंतला शर्मा,विजेंदर मोघा,नवीन नौटियाल आदि प्रमुख रूप से मोजूद रहे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close