ऋषिकेशधर्म-कर्म

*ऋषिकेश- गमगीन आंखों से पत्नी ने कराया नेत्रदान*

ऋषिकेश-तिलक रोड निवासी भोलानाथ गेरा भले ही आज हमारे मध्य नहीं है लेकिन उनकी पत्नी हर्ष गेरा द्वारा कराया गया नेत्रदान समाज के लिए प्रेरणा स्रोत है ।


नेत्रदान कार्यकर्ता व लायंस क्लब ऋषिकेश देवभूमि के चार्टर अध्यक्ष गोपाल नारंग ने बताया कि भोलानाथ आज प्रातः गंगा घाट पर जा रहे थे कि पीछे से अज्ञात वाहन द्वारा टक्कर मारने से गंभीर रूप से घायल हो गए जिन्हें तुरंत एम्स हॉस्पिटल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। अ्कस्मात निधन पर किसी में भी नेत्रदान के लिए कहने का साहस नहीं था ,ऐसे दुख की घड़ी में प्रिंस मनचंदा व बिंदिया गोस्वामी ने हिम्मत करके उनकी पत्नी को नेत्रदान के लिए प्रेरित किया, जिस पर उनकी पत्नी ने दुःखी मन से सहमति प्रदान कर दी। जिस पर एम्स हॉस्पिटल की डॉक्टर संध्या ने उनके निवास पर जाकर दोनों कार्निया सुरक्षित प्राप्त कर लिए। प्रारंभिक जांच में दोनों कोर्निया स्वस्थ हैं जिन्हें आवश्यक जांचों के बाद दो नेत्रहीनों की आंखों में प्रत्यारोपित कर दिया जाएगा। परिवार द्वारा कराए गए इस कार्य का संदीप गोसाईं, मनमोहन भोला, विनय भाटिया, अनिल ककड, संगीता आनंद, मनीष कोरिया ने साधुवाद दिया। नेत्रदान महादान हरिद्वार ऋषिकेश प्रमुख रामशरण चावला के अनुसार मिशन का 220 सफल प्रयास है जो भविष्य में अविरल चलता रहेगा।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close