खेलशहर में खास

*खेल को खेल की भावना से एवं अनुशासन में रहकर खेलना चाहिए-प्रेमचंद अग्रवाल*

डोईवाला 31 अक्टूबर। राल्स न्यूट्रिशन हेल्थ कंपनी के सौजन्य से डोईवाला में नॉर्थ इंडिया पावर लिफ्टिंग चैंपियनशिप का आयोजन किया गया।कार्यक्रम का शुभारंभ बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल द्वारा रिबन काटकर किया गया।इस दौरान श्री अग्रवाल ने चैंपियनशिप में प्रतिभाग करने वाले विभिन्न राज्यों से पहुंचे खिलाड़ियों का देवभूमि आगमन पर स्वागत किया।
डोईवाला के राजकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय में आयोजित एक दिवसीय नॉर्थ इंडिया पावर लिफ्टिंग चैंपियनशिप प्रतियोगिता के दौरान डेढ़ सौ से अधिक खिलाड़ियों ने प्रतिभाग किया। इस प्रतियोगिता के दौरान विभिन्न वेट कैटेगरी एवं ऐज कैटेगरी के आधार पर पावर लिफ्टिंग प्रतियोगिता आयोजित की गई।चैंपियनशिप के दौरान हरियाणा, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों के खिलाड़ियों ने प्रतिभाग किया।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने प्रतिभाग करने वाले खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दी एवं आयोजित करने वाली कंपनी द्वारा इस प्रकार के कार्यक्रम उत्तराखंड में आयोजित किये जाने के लिए सराहना की।उन्हाेंने कहा कि खेलों में हार-जीत कोई मायना नहीं रखती, बल्कि विजेता और पराजित खिलाड़ियों को प्रतियोगिताओं के दौरान नई खेल तकनीक सीखने का सुअवसर प्राप्त होता है। श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा खेलों के स्तर को ऊंचा उठाने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं।जिसके परिणाम स्वरूप प्रदेश के खिलाड़ियों को उचित मार्गदर्शन तथा सहयोग मिलने से उन्होंने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतिस्पर्धाओं में अग्रणी रहकर देश और प्रदेश का नाम रोशन किया है।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि खेल को खेल की भावना से एवं अनुशासन में रहकर खेलना चाहिए। श्री अग्रवाल ने पावर लिफ्टिंग प्रतियोगिता के बारे में संबोधित करते हुए कहा कि यह खेल न सिर्फ हमारी शारीरिक, बल्कि बौद्धिक क्षमता को भी बढ़ाता है।इस खेल में शरीर के साथ-साथ खिलाड़ियों का व्यक्तित्व भी निखरता है. हम सभी को इस खेल से जुड़ना चाहिये।
इस अवसर पर कोच विश्वास जी, फरीद कुरेशी, मुस्तफा, समीर, आदर्श, अखंड प्रताप सिंह, मुजम्मिल सहित कई खिलाड़ी मौजूद थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close