शहर में खासस्वास्थ्य

*रोटरी क्लब ऋषिकेश एवं ऋषिकेश आयुर्वेदिक डाक्टर्स एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में आयुर्वेद एवं पोषण विषय पर व्याख्यान माला आयोजित*

*आज के छात्र ही कल के समाज, प्रदेश और देश के दर्पण होंगे इसलिए आपको अपने जीवन को उज्जवल बनाना ही होगा- डाक्टर रवि कौशल*


आज रोटरी क्लब ऋषिकेश और ऋषिकेश आयुर्वेदिक डाक्टर्स एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में आयुर्वेद एवं पोषण विषय पर व्याख्यान माला के क्रम में चंद्रेश्वर पब्लिक स्कूल , चंद्रेश्वर नगर के बच्चो को आहार विहार की जानकारी देकर उनके स्वस्थ्य एवं सुखमय जीवन के सूत्र आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा दिये गये और सभी छात्र छात्राओं को पौष्टिक फल का वितरण किया गया । कार्क्रम की शुरुआत डॉ0 सीमा सक्सेना के निर्देशन में छात्र छात्राओं द्वारा लघु नाटिका के साथ किया गया जिसमें पेड़ को काटने से बचाने ,पर्यावरणीय सम्बर्धन और सभी को स्कूल जाकर शिक्षा प्राप्त करने की संदेश दिए गए।रोटरी क्लब ऋषिकेश के अध्यक्ष डॉ0 रवि कौशल ने छात्रों से शरीर के साथ ही साथ घर , मुहल्ला और शहर की सफाई पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता बताई और सरकार के स्वच्छ मिशन कार्यक्रम को नई दिशा देने की बात की । उन्होंने कहा आज के छात्र ही कल के समाज, प्रदेश और देश के दर्पण होंगे इसलिए आपको अपने जीवन को उज्जवल बनाना ही होगा ।
आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ0 डी0 के0 श्रीवास्तव ने प्रोग्राम की वर्तमान में उपयोगिता बताते हुए छात्रों से कहा कि आहार ही औषधि है यदि हम ऋतु और सीजनल फल और सब्जियों का ही उपयोग करें तो डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नही पड़ेगी और हमारा जीवन शतायु होगा , आज आयुर्वेद के सिद्धांत विज्ञान की कसौटी पर खरे उतर रहे है , पूरे विश्व मे आयुर्वेद के सिद्धांतों पर रिसर्च और नयापन ढूंढा जा रहा है जिसके आधार पर मानव जीवन को स्वस्थमय एवं आनंदमय रास्ता प्राप्त हो ।हमारा आहार विहार और व्यवहार आज भी विश्व मे सर्वश्रेष्ठ है , दुनिया हमारे संस्कारो का सम्मान करती है, सबसे पुरानी सभय्ता के साथ ही साथ सबसे पुरानी चिकित्सा पद्धति के हम मालिक है, यह हमें गौरवान्वित करता है। आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ0 जी0एल0 अरोरा ने कहा कि ब्रह्ममुहूर्त में उठने से हमारे मस्तिष्क में ज्ञान का भंडार बढ़ जाता है, प्राकृत तीन गुणों सत्व , रज और तम ही हमारी दिशा और दशा तय करते हैं , हमे अपने माता पिता , गुरु के किसी आज्ञा का अनादर नही करना चाहिए , उन्होंने सम्यक दिनचर्या की जानकारी देकर बच्चो का ज्ञान वर्धन किया। शारीरिक विकास के साथ मानसिक विकास पर भी ज्यादा ध्यान देने की युक्ति दी।आयुर्वेद चिकित्साधिकारी डॉ0 प्रतीक रावत ने फ़ास्ट फ़ूड ,पैक्ड फूड और प्रोसेस्ड फ़ूड के जहरीले परिणामो से बच्चो को आगाह किया , अपने भोजन में ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियों का फलों का उपयोग करके बच्चे अपना शरीर सुगठित और अच्छा विकाश कर सकते हैं , प्रतिदिन दूध का सेवन मेधा शक्ति को बढ़ाती है। बच्चो को अच्छे शरीर और मस्तिष्क के लिए प्रोटीन का प्रयोग अवश्य करना चाहिए जिसे आप अपने वजन के हिसाब से उतना ग्राम प्रतिदिन लें।उन्होंने ठंड के मौसम में अपने को कैसे बचाये की जानकारी दी। आयुर्वेद चिकित्साधिकारी डॉ0 अरुण कुमार ने बताया कि भारत सरकार वर्षो बाद पिछले 7, 8 बर्षो से आयुर्वेद के नए स्वरूप के साथ आम जनता के लिए उनके उत्तम स्वस्थमय के लिए अग्रसर है , आयुष मंत्रालय द्वारा समय समय पर आयुर्वेद को वैज्ञानिकता की कसौटी पर सिद्ध कर उसको चिकित्सा के आयाम बना रही है। हमे अपनी परम्पराओ को सजों कर उनसभी अच्छाइयों का अपनाना चाहिए , तभी हम स्वर्णिम भारत के विकाश में सहायक होंगे।
कल के कार्यक्रम में राजकीय पूर्वमाधमिक विद्यालय , देहरादून रोड पर भी यह पोषण और आयुर्वेद की शृंखला का आयोजन किया गया था जिसमे मुख्य वक्ता वैद्य राकेश मुदगल ने छात्रों के जीवन को निरोगी और ऊर्जावान बनाने की सारगर्भित जानकारी दी थी।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close