उत्तराखण्डव्यक्ति विशेष

*रचनात्मक एवं सकारात्मक बनें युवा – डॉ. कविता भट्ट*

लेखिका-डॉक्टर कविता भट्ट।

भारतवर्ष युवाओं का देश है और युवा ही भारत का सर्वतोमुखी विकास कर सकते हैं। अतः युवाओं की यह जिम्मेदारी है कि वे रचनात्मक एवं सकारात्मक बनें और अपनी ऊर्जा को राष्ट्र-निर्माण में लगाएँ।’ यह बात हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय, श्रीनगर- गढ़वाल (उत्तराखंड) में रिसर्च एसोसिएट डॉ. कविता भट्ट ने कही। वे युवाओं का व्यक्तित्व विकास विषयक व्याख्यान दे रही थीं। कार्यक्रम का आयोजन ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय, मधेपुरा ( बिहार) के राष्ट्रीय सेवा योजना, इकाई-1 के सात दिवसीय शिविर के अंतर्गत किया गया।
उन्होंने कहा कि किसी भी समाज एवं राष्ट्र के विकास में युवाओं की भूमिका सबसे महत्त्वपूर्ण होती है। युवाओं के व्यक्तित्व से राष्ट्र का व्यक्तित्व परिलक्षित होता है। हमारे देश के युवाओं में प्रतिभा है। हमारे युवा बड़े से बड़े कार्य कर सकते हैं। लेकिन आवश्यकता सही दिशा-निर्धारण एवं यथोचित मार्गदर्शन की है। युवाओं के मार्गदर्शन का दायित्व शिक्षकों एवं अभिभावकों दोनों पर है। राष्ट्रीय सेवा योजना युवा व्यक्तित्व के सम्यक् विकास पर जोर देता है। इसका उद्देश्य युवाओं का शारीरिक, मानसिक एवं नैतिक हर दृष्टिकोण से परिष्करण एवं उन्नयन है। व्यक्तित्व के इन सभी आयामों का विकास होने पर ही युवा देश को विश्वगुरु के रूप में प्रतिष्ठित करने में सक्षम हो सकेंगे।
आज युवाओं में वैचारिक दृढ़ता की कमी है और वे निरन्तर नशे की प्रवृत्ति के भी शिकार हो रहे हैं। साथ ही अवसाद की स्थिति में युवा अनेकशः आत्महत्या भी कर लेते हैं। इस प्रकार की त्रासदी से उबरने के लिए युवाओं की संकल्प- शक्ति में वृद्धि हेतु निरन्तर प्रशिक्षण और प्रोत्साहन की आवश्यकता है।
मदन मोहन मालवीय हॉस्पिटल, दिल्ली सरकार, नई दिल्ली सीएमओ डा. मणिशंकर प्रियदर्शी ने मौसम परिवर्तन और स्वास्थ्य विषय पर व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि हमें मौसम परिवर्तन से होने वाले रोगों के प्रति सावधान रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमेशा खान-पान का विशेष ख्याल रखें। तला-भूना एवं बासी भोजन ना खाएँ। प्रचुर मात्रा में साफ पानी पिएँ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रधानाचार्य डॉ. के. पी. यादव ने बताया कि शिविर में 29 अक्टूबर तक योगाभ्यास जारी रहेगा। सी एम साइंस कॉलेज, मधेपुरा में मनोविज्ञान विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. ललन कुमार ने कहा कि यह शिविर वार्ड के आम लोगों के लिए भी उपयोगी है। इसके समापन समारोह में वार्ड के कई गणमान्य लोग शामिल होंगे। इनमें पूर्व विधायक डॉ. एवं वार्ड पार्षद डॉ. अभिलाषा कुमारी के नाम शामिल हैं ।
शिविर में अतिथियों का स्वागत कार्यक्रम समन्वयक डॉ. अभय कुमार ने किया। संचालन कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ. सुधांशु शेखर ने किया। धन्यवाद ज्ञापन एएनओ लेफ्टिनेंट गुड्डु कुमार ने किया।

इस अवसर पर पूर्व कार्यक्रम समन्वयक डॉ. अमोल राय, सुप्रसिद्ध साहित्यकार डॉ. विनय कुमार चौधरी, प्रधानाध्यापिका एलिस, उप खेल सचिव डॉ. शंकर कुमार मिश्र, पूर्व कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ. उपेंद्र प्रसाद, डॉ. शिवनाथ साह, अतिथि व्याख्याता डॉ. अशोक कुमार, सीनेटर रंजन यादव, शोधार्थी द्वय सारंग तनय एवं सौरभ कुमार चौहान, बायोटेक विभाग के प्रणव कुमार, ज्योतिष कुमार, सतीश कुमार, सुभाष कुमार, उज्ज्वल कुमार, यादव, नीरज यादव, सुमन कुमार, अंकित कुमार, रौशन कुमार, गौरव कुमार, संयम भारद्वाज आलोक कुमार, विजयकृष्ण भारती, नंदन कुमार, अभिमन्यु कुमार, राजा कुमार, राजेश कुमार, प्रभाष कुमार, आशीष कुमार, प्रिंस कुमार, हिमांशु कुमार, सौरभ कुमार, नीशु कुमारी, सूरज प्रताप, ज्योति कुमारी, मिन्टू कुमारी, ऋतु राज, मनीषा कुमारी, क्रांति लता, नित्यानंद कुमार आदि उपस्थित थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close