Breaking News

*बिग ब्रेकिंग- ऋषिकेश- गीता भवन के 10 कर्मचारी उतरे टंकी से नीचे- प्रशासन प्रशासन ने ली राहत की सांस*

ऋषिकेश/ स्वर्गाश्रम- अपनी नौकरी से निकाले जाने की मांग को लेकर पानी की टंकी पर चढ़े गीता भवन के कर्मचारी प्रशासन श्रम विभाग और स्थानीय नेताओं की गुजारिश पर करीब 24 घंटे बाद कुशलतापूर्वक नीचे उतर गए हैं। उनके साथ टंकी पर चढ़े एक बच्चे को पहले ही उतार लिया गया था।

आपको बता दें कि बीते शुक्रवार को स्वर्ग आश्रम में गीता भवन औषधि निर्माण शाला के 10 कर्मचारी अपनी नौकरी से निकाले जाने से व्यथित होकर नजदीकी एक पानी की टंकी पर चढ़ गए थे। कर्मचारियों के साथ उनका एक 10 साल का बेटा भी टंकी पर चढ़ा था जिसके बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया। प्रशासन और पुलिस ने तत्काल मोर्चा संभाला उनकी मांग मनौवल की बहुत कोशिश हुई लेकिन कर्मचारी टस से मस नहीं हुए।

बच्चे समेत 11 लोग रात भर पानी की टंकी पर बैठे रहे और उनके परिवार टंकी के नीचे रात गुजारी। सूचना मिलने पर एसडीएम यम्केश्वर युक्ता मिश्रा भी मौके पर पहुंची उन्होंने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए श्रम आयुक्त को मामला सुलझाने के लिए कहा। शनिवार को श्रम विभाग की मध्यस्था में प्रबंधन और कर्मचारियों के प्रतिनिधियों के बीच वार्ता के बाद हल निकला। बताया जा रहा है कि प्रबंधन ने निकाले गए कर्मचारियों को आश्वस्त किया है कि उन्हें काम पर रखा जाएगा। तब कर्मचारी देर शाम टंकी से नीचे उतर गए। ज्ञात हो कि गीता भवन औषधि निर्माण शाला के सिडकुल हरिद्वार में स्थानांतरण होने के बाद 35 कर्मचारियों को नौकरी से हटा दिया गया था उसके बाद से कर्मचारी लगातार आंदोलन रखें। कई बार की आपसी वार्ता करने के बाद भी कोई हल नहीं निकला तब शुक्रवार को कर्मचारियों ने आत्मघाती कदम उठाया। यह मामला पूर्व में श्रम विभाग में भी लंबित है उक्त मामले को लेकर 12 नवंबर को सुनवाई भी होनी थी इस बीच कर्मचारियों ने यह कदम उठा लिया जब कर्मचारी टंकी से नीचे उतरे तो शासन प्रशासन ने राहत की सांस ली।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close