अपराध

*लव-मैरिज करना लड़के के परिवार पर पड़ा भारी-पढे़ं कैसे?*


हरियाणा के रेवाड़ी में एक युवक ने अपने ही पडो़स की लड़की से लव-मैरिज कर ली। प्रेम विवाह का अंजाम यह रहा कि लड़के के परिवार पर सोमवार की सुबह लाठी-डंडों से हमला कर दिया गया। हमले में लड़के का बाप बुरी तरह घायल हो गया हैं। इसके अलावा भी मां, चाचा-चाची व बहन को चोटें आई हैं। घायलों को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया हैं। पीड़ित परिवार ने हमले का आरोप लड़के के परिवार वालों पर लगाया है। पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है। मिली जानकारी के अनुसार शहर के मोहल्ला संघी का बास निवासी चिराग ने 8 अक्टूबर को अपने ही मोहल्ले की एक लड़की के साथ लव-मैरिज की थी। चिराग के परिवार का कहना है कि इस शादी से लड़के के परिवार के लोग खफा हैं। जान के खतरे के कारण ही चिराग व लड़की दोनों कोर्ट से सुरक्षा लेकर सेफ हाउस में रह रहे हैं। चिराग की बहन चित्रा ने बताया कि सोमवार सुबह वह अपने घर पर ही थे। तभी लड़की का भाई योगेश 8-10 अन्य लोगों के साथ उनके घर पहुंचा तथा उनके पिता अमर सिंह पर हमला कर दिया। इतना ही नहीं बचाव में आई चित्रा व उसकी मां रेखा को भी बुरी तरह पीटा। साथ ही चाचा संजय व चाची रजनी को भी चोट मारी गई। करीब 20 मिनट तक खूब हंगामा हुआ। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गए। चिराग के पिता अमर सिंह को ज्यादा चोटें आई हैं। घायलों को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है। इससे पहले 8 अक्टूबर को ही चिराग के दोस्त गौरव पर भी इसी तरह हमला किया गया था, जिसमें उसके हाथ-पैर तोड़ दिए गए थे। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी हैं।

शहर थाना के अंर्तगत आने वाली गोकल गेट पुलिस चौकी इंचार्ज शीशराम का कहना है कि चिराग ने अपने पडो़स की लड़की के साथ लव-मैरिज की हैं। कोर्ट के आदेश के बाद दोनों सेफ हाउस हैं। सोमवार सुबह दोनों पक्षों का किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ है। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं। एक पक्ष की तरफ से शिकायत मिली है, जबकि दूसरे पक्ष की तरफ से अभी कोई शिकायत नहीं मिली है। मामले में कार्रवाई की जा रही हैं।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close