ऋषिकेश

*विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी महिलाओं का पुष्प माला पहना कर सम्मान किया*

ऋषिकेश 2 अक्टूबर – बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी महिलाओं का पुष्प माला पहना कर सम्मान किया। इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने कहा है कि उत्तराखंड राज्य का निर्माण महिलाओं के संघर्ष के बल पर हुआ है।
बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा है कि 2 अक्टूबर के दिन रामपुर तीराहे पर हुई अवमानना को कभी भुला नहीं जा सकता । उन्होंने कहा है कि मैं स्वयं आंदोलनकारी रहा हूं परंतु वह ऐसी घटना थी जिससे हर व्यक्ति स्तब्ध था ।
श्री अग्रवाल ने कहा है कि उस घटना के बाद संपूर्ण उत्तराखंड में आक्रोश की ज्वाला भड़की और परिणाम स्वरूप उत्तराखंड राज्य का निर्माण हुआ । उन्होंने कहा कि उत्तराखंड अब युवा अवस्था में पहुंच चुका है उत्तराखंड राज्य का विकास हम सब लोगों के आशा व उम्मीदों पर टिका हुआ है । राज्य की प्रगति में समस्त उत्तराखंड वासियों को समर्पित भाव से कार्य करने की आवश्यकता है ।
श्री अग्रवाल ने कहा है कि यह समय संकल्प का समय है कि हम उत्तराखंड राज्य के विकास के लिए निष्ठा पूर्वक कार्य कर इस प्रदेश की खुशहाली व तरक्की के लिए सामूहिक विकास पर आगे बढ़े ।
राज्य आंदोलनकारी महिलाओं का सम्मान करते हुए कहा है की यह सम्मान न केवल उन महिलाओं का है जिन्होंने उत्तराखंड राज्य के लिए संघर्ष किया बल्कि यह सम्मान उत्तराखंड की उन तमाम महिलाओं का है जो राज्य को आगे बढ़ाने के लिए दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में कार्य कर रही है ।
श्री अग्रवाल ने उत्तराखंड राज्य आंदोलन में शहीद हुए आंदोलनकारियों को भी नमन किया और कहा है कि हम शहीद आंदोलनकारियों के सपनों का उत्तराखंड बनाने की ओर अग्रसर है।
इस अवसर पर राज्य आंदोलनकारी श्रीमती कमला नेगी, शोभा चौहान, पुष्पा ध्यानी, पद्मा नैथानी, इंदु थपलियाल आदि महिलाओं का सम्मान किया गया । जबकि कार्यक्रम में पार्षद लव काम्बोज, पार्षद चेतन चौहान, विजयलक्ष्मी शर्मा, राजेश कुमार, अरुण सिंह, रूपराम, जयंत कुमार आदि सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close