Breaking Newsअपराध

*ऋषिकेश/जौलीग्रांट-नौकरी के लिए दबाव बनाने पर चुन्नी से गला घोटकर मार डाला-जौलीग्रांट हॉस्पिटल के कर्मचारी कि करतुत*

देहरादून/जौलीग्रांट क्षेत्र यहां 22 अगस्त को जंगल में एक युवती की लाश मिली थी। इस मामले में पुलिस ने जौलीग्रांट अस्पताल के एक कर्मचारी को पकड़ा है। पुलिस पूछताछ में आरोपी ने हत्या की बात कबूली, साथ ही युवती को खौफनाक मौत देने की वजह भी बताई। मरने वाली युवती टिहरी के कुंडी पट्टी के केमर गांव की रहने वाली थी। 3 सितंबर को उसके पिता ने डोईवाला कोतवाली में बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जिसमें उसने बताया कि 8 अगस्त को उनकी बेटी घर से जौलीग्रांट अस्पताल में नौकरी लगने की बात कहकर देहरादून के लिए निकली थी। 14 अगस्त तक उनकी बेटी से बात हुई, इसके बाद से उसका फोन बंद है। पुलिस युवती की तलाश में जुट गई। इस बीच पता चला कि 22 अगस्त को पुलिस ने रानीपोखरी के धारकोट रोड से कुछ दूरी पर जंगल में एक युवती का शव बरामद किया था। पुलिस ने शव के साथ मिली चप्पल, पाजेब और अन्य सामान दिखाया तो पीड़ित ने मृतक की शिनाख्त अपनी बेटी के रूप में की। हत्या की आशंका को देखते हुए पुलिस ने युवती के मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल निकलवाई। जिसमें पता चला कि उसकी गौतम पंवार, निवासी चक चौबेवाला रानीपोखरी से लगातार बात हो रही थी।
संदेह के आधार पर पुलिस ने गौतम को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पहले तो वो पुलिस को बरगलाता रहा, लेकिन सख्ती बढ़ने पर हत्या की बात कबूल कर ली।आरोपी ने बताया कि इसी जुलाई में वो टिहरी की रहने वाली युवती के संपर्क में आया था। गौतम ने उसे कहा था कि वो उसकी जौलीग्रांट अस्पताल में नौकरी लगवा देगा, लेकिन नौकरी नहीं दिला पाया। इस बीच गौतम और युवती के बीच शारीरिक संबंध बन गए। युवती गौतम पर जॉब लगवाने का दबाव बना रही थी, साथ ही कहा कि अगर नौकरी नहीं लगवाई तो वो गौतम को बदनाम कर देगी। धमकियों से डर कर गौतम ने युवती की हत्या का प्लान बनाया। 15 अगस्त को वो घूमाने के बहाने युवती को धारकोट रोड पर ले गया, जहां चुन्नी से गला घोंटकर युवती की हत्या कर दी। बहरहाल पुलिस ने आरोपी के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close