पौड़ी

*यमकेश्वर विधानसभा में रोजगार कि अपार संभावनाएं-हेमन्त बहुखंडी*

यमकेश्वर विधानसभा में भरोसा फाउंडेशन के संस्थापक अध्यक्ष हेमन्त बहुखंडी ने विभिन्न गांवों का दौरा कर लोगों के दुख दर्द को साझा किया। हेमन्त बहुखंडी ने बातचीत एवं भ्रमण के दौरान देखा कि आजादी के बाद भी यमकेश्वर क्षेत्र बुरी तरह से पिछड़ा हुआ है ,जबकि यहां रोजगार और खेती किसानी के लिए अपार संभावनाएं हैं।

यमकेश्वर- समाज सेवी राष्ट्रपति पदक पुरस्कार से सम्मानित ग्राम गोला मल्ला निवासी व भावी प्रत्याशी यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्र हेमन्त बहुखंडी ने ग्राम सभा रिखेड़ा और बंचूरी विकासखंड यमकेश्वर विधान सभा यमकेश्वर पौड़ी गढ़वाल, का दौरा किया, जहां ग्रामीणों ने अपने गांव और क्षेत्र की समस्याओं से अवगत कराया.

यहाँ लोग बड़ी मात्रा में अपनी जीविका चलाने के लिए खेती करते थे लेकिन सिंचाई के लिए पानी की कमी और जंगली जानवरो के भय से लोगों ने खेती करना छोड़ दिया।

आज महिलाओं के सशक्तिकरण व स्वावलंबन के लिए महिला स्वयं सहायता समूह की महिलाओ से बात करके उनको जैविक खेती करने के लिए प्रेरित किया इस विषय पर उपस्तिथ सभी महिलाओं ने भरोसा फाउंडेशन के साथ जुड़ने व काम करने की इच्छा जताई !

आज इस गांव की सभी मातृशक्ति और ग्रामीणों ने बहुत ही अच्छे तरीके से अपनी समस्याओं को व्यक्त किया है और गांव के पलायन का दर्द भी समझाया है, जो कि हमारे पूरे उत्तराखंड की एक गंभीर समस्या है, इसमें क्षेत्र में खेती योग्य भूमि कई सालों से बंजर पड़ी है जिसमें अनाज, बागवानी, सब्जियां, फल बहुत अच्छी मात्रा में पैदा हो सकते हैं, इसके अलावा बकरी पालन, मुर्गी पालन, मछली पालन की अपार संभावनाएं हैं, जो स्थानीय युवाओं और ग्रामीणों के लिए स्वरोजगार के अवसर उत्पन्न कर सकते हैं !!

उन्होंने लोगों से कहा कि कोरोना महामारी से बचने के लिए जब भी घर से बाहर निकलें तो फेस मास्क पहनें और सरकार द्वारा दी जा रही वैक्सीन इतनी प्रतिशत सुरक्षित है और जिन्हें अभी तक वैक्सीन नहीं मिली है, उन्हें वैक्सीन की दोनों डोज जल्द से जल्द लगानी चाहिए और ग्रामीणों को बताया कि इस महामारी से बचने के लिए वैक्सीन ही एकमात्र उपाय है।

जहां श्रीमती विनीता लखेड़ा (ग्राम प्रधान बनचुरी), श्रीमती पल्लवी लखेड़ा ( ग्राम प्रधान रिखेडा) , श्री अलोक सिंह बिष्ट (अध्यापकअंग्रेजी विषय एंव समाजसेवी ), श्रीमती सुमन लता देवी ( आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ), श्रीमती रेखा देवी ( आशा वर्कर ) , श्रीमती पूनम देवी, संगीता देवी , सीता देवी, बसंती देवी, बबिता देवी, राधा देवी, कमलेश्वरी देवी, धुपनी देवी, हीरा देवी, विमला देवी व अन्य ग्रामीण व बड़ी संख्या में मातृ शक्ति उपस्तिथ थीं।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close