Breaking Newsअजब-गजब!पौड़ी

*उत्तराखंड-गढ़वाल की साहसी गंगा देवी-दरांती लेकर गुलदार से भिड़ गई- दुम दबाकर भागा आदमखोर गुलदार*

पौड़ी गढ़वाल-पहाड़ की जिंदगी मुश्किल ही सही, लेकिन यहां की बहादुर महिलाएं इन मुश्किलों पर जीत हासिल करने का हुनर खूब जानती हैं। हालात कितने ही विषम हों, वो हार नहीं मानतीं। अब पौड़ी गढ़वाल के चौबट्टाखाल में ही देख लें, यहां जान बचाने के लिए पहाड़ी महिला गुलदार से भिड़ गई। महिला ने गुलदार पर दरांती से ताबड़तोड़ वार किए, जिसके बाद गुलदार महिला को छोड़कर जंगल की ओर भाग गया। घटना पांथर गांव की है। जहां रविवार शाम गांव में रहने वाली गंगा देवी घर से कुछ दूर खेतों में घास काट रही थी। तभी घात लगाए गुलदार ने महिला पर हमला कर दिया। एक पल के लिए गंगा देवी बुरी तरह डर गईं, लेकिन उन्होंने गुलदार से दो-दो हाथ करने की ठान ली। गुलदार ने महिला का हाथ अपने जबड़े में दबा दिया, इस दौरान गंगा दूसरे हाथ में पकड़ी दरांती से गुलदार पर वार करने लगीं। जिससे गुलदार घबरा कर जंगल की ओर भाग गया। इस बीच गंगा देवी के चीख पुकार सुनकर आसपास मौजूद ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए और झाड़ियों की ओर पत्थर फेंक कर गुलदार को गांव से दूर भगाया।
इस तरह गंगा देवी की जान तो बच गई, लेकिन वो गुलदार के हमले में बुरी तरह घायल हुई हैं। उन्हें इलाज के लिए नौगांवखाल के अस्पताल ले जाया गया है। घटना के बाद से गांव में दहशत है। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले करीब 2 माह से गुलदार लगातार अलग-अलग गांव में नजर आ रहा है। इस संबंध में वन विभाग को भी सूचित किया गया लेकिन वन विभाग की ओर से कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई। यहां 20 अगस्त को गडोली गांव में मवेशी चरा रहे युवक पर गुलदार ने हमला कर दिया था। 21 अगस्त को गुलदार ने घर के आंगन में खाना बना रही महिला को शिकार बनाने की कोशिश की। उप जिलाधिकारी संदीप कुमार ने भी गांव में गुलदार के हमलों के बढ़ने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की सुरक्षा को देखते हुए वन विभाग से गांव में अलग-अलग जगह पिंजरा लगाने को कहा गया है।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close