Breaking NewsUNCATEGORIZED

*ऋषिकेश-गंगा का जलस्तर खतरे के निशान के पास- तट पर के निवासियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया*

ऋषिकेश: गंगा का जलस्तर खतरे के निशान के पास लगभग 400 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्टऋषिकेश में गंगा नदी का जल स्तर खतरे के निशान के पास पहुंच चुका है। प्रशासन ने अबतक ऋषिकेश के चंदेश्वर में घरों में पानी घुसने के कारण 300 से भी अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट कर दिया गया है।

उत्तराखंड में मानसून के दस्तक देते ही तबाही का दृश्य साफ देखा जा रहा है। 13 जून को उत्तराखंड के अंदर मानसून ने दस्तक दी थी। उस समय मानसून की रफ्तार धीमी पड़ गई थी मगर बीते गुरुवार से उत्तराखंड में मानसून ने रफ्तार पकड़ ली है और लगातार हो रही भारी बरसात के कारण राज्य में गंभीर परिस्थिति उत्पन्न हो रही हैं। लगातार पहाड़ों पर भारी बरसात के कारण भूस्खलन हो रहा है। नदियां और गदेरे अपने उफान पर हैं। न जाने कितने ही लोगों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो रखा है। नदी के किनारे रह रहे लोगों का हाल बेहाल हो रखा है। नदियों के बढ़ते हुए जलस्तर के कारण नदी का पानी लोगों के घरों के अंदर तक घुस आया है। बात करें गंगा नदी की तो ऋषिकेश में गंगा नदी का स्तर खतरे के निशान के पास पहुंच चुका है जिसके बाद प्रशासन अलर्ट हो गया है और खतरे को भांपते हुए ऋषिकेश प्रशासन ने अब तक गंगा के किनारे रह रहे 300 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट कर दिया है।

आपको बता दें कि उत्तराखंड में बीते गुरुवार से लगातार बारिश हो रही है जिस वजह से गंगा नदी अपने उफान पर है। पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश की वजह से गंगा का जलस्तर काफी बढ़ गया है और गंगा नदी का स्तर पूरे उफान पर है। जलस्तर बढ़ने की वजह से ऋषिकेश के चंदेश्वर नगर में लोगों के घरों के अंदर पानी घुस आया है। बीती रात से ही लोगों का रेस्क्यू ऑपरेशन किया जा रहा है और उन को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक कल रात से ही ऋषिकेश में गंगा नदी के किनारे रह रहे लोगों को सुरक्षित धर्मशालाओं में शिफ्ट किया जा रहा है। बता दें कि भारी बरसात के कारण ऋषिकेश में गंगा नदी अपने उफान पर है और जल स्तर बढ़ने के कारण चंदेश्वर नगर में लोगों के घरों में पानी घुसने की सूचना मिलने के बाद स्थानीय प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और वहां रह रहे 300 लोगों को सुरक्षित वहां से बाहर निकाला गया। कल रात को ही सभी को आश्रमों और धर्मशाला में शिफ्ट कर दिया गया है। प्रशासन द्वारा उन लोगों के रहने और खाने-पीने की पूरी व्यवस्था की जा रही है।
प्रशासन द्वारा लोगों को नदी के किनारे जाने से लगातार मना भी किया जा रहा है और प्रशासन द्वारा लोगों को अपना और अपने परिवार का ख्याल रखने को लेकर भी अनाउंसमेंट की जा रही है। तहसीलदार ने बताया कि देर रात को सूचना मिली कि भारी बरसात के कारण गंगा का जलस्तर बढ़ रहा है और रात से ही प्रशासन की टीम को अलर्ट कर दिया गया था। नायब तहसीलदार ने बताया कि ऋषिकेश के चंदेश्वर नगर में लोगों के घर में पानी घुसने की सूचना मिलने के बाद प्रशासन की टीम मौके पर वहां पर पहुंची और रात से ही लोगों को प्रशासन सुरक्षित स्थानों पर भेजने में जुटा हुआ। पुलिस प्रशासन की टीम पूरी तरह से ड्यूटी पर मुस्तैद है। जल पुलिस के जवान घाट पर तैनात कर दिए गए हैं जो कि लगातार तटीय क्षेत्रों पर नजर बनाए हुए हैं।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close