Breaking News

*PM मोदी, शाह और नड्‌डा की हो चुकी है हाईलेबल मीटिंग, मंत्रिमंडल फेरबदल को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म*

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री मोदी पिछले कुछ दिनों से अलग-अलग समूहों में अपने मंत्रियों के साथ भी बैठकें कर चुके हैं। इनमें वे सभी मंत्रियों से उनके मंत्रालय द्वारा पिछले दो साल में किए कामकाज की जानकारी ले रहे हैं।

केंद्रीय मंत्रिमंडल में इसी महीने फेरबदल की अटकलें हैं। खबर है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ बैठक की है। इसके बाद इन अटकलों को बल मिला है।

सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी पिछले कुछ दिनों से अलग-अलग समूहों में अपने मंत्रियों के साथ भी बैठकें कर चुके हैं। इनमें वे सभी मंत्रियों से उनके मंत्रालय द्वारा पिछले दो साल में किए कामकाज की जानकारी ले रहे हैं।

बैठक में संगठन महामंत्री बीएल संतोष भी शामिल हुए हैं। इनमें कई मंत्रियों ने अपने काम का प्रजेंटेशन भी दिया है। एक और तथ्य ये भी है कि दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने मंत्रिपरिषद में कोई बदलाव नहीं किया है।

केंद्र में कई मंत्रियों के पास दोहरा-तिहरा प्रभार-

रेल मंत्री पीयूष गोयल के पास वाणिज्य, रेल मंत्रालय के अलावा उपभोक्ता मंत्रालय का भी प्रभार है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के पास पर्यावरण के साथ भारी उद्योग मंत्रालय का भी प्रभार है।

कृषि, पंचायती राज, ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के पास खाद्य प्रसंस्करण का अतिरिक्त प्रभार है।
आयुष मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार खेल एवं युवा मामलों के मंत्री किरेन रिजिजू संभाल रहे हैं।
अभी टीम में 59 मंत्री-
बीते एक साल से करोना की वजह से मंत्रिमंडल विस्तार की स्थितियां नहीं बन पाई थीं, लेकिन अब टीम में फेरबदल की तैयारी की जा रही है। फिलहाल PM मोदी की टीम में उनके अलावा 21 कैबिनेट और 9 राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार और 29 राज्य मंत्री हैं।

इनके नामों की चर्चा-

सूत्रों के मुताबिक, मंत्रिपरिषद के फेरबदल और विस्तार में असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल, बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, बैजयंत पांडा के नामों की चर्चा हो रही है। इस बार के विस्तार में जदयू को भी शामिल करने की स्थितियां बन सकती हैं।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close