ऋषिकेश

*उत्तराखंड-सरकार व्यवसाय को जीवित रखने हेतु ठोस कदम उठाए- प्रदेश उद्योग एवं व्यापार मंडल समिति*


ऋषिकेश- 30 मई 2021 को प्रदेश उद्योग एवं व्यापार मंडल समिति की एक वर्चुअल बैठक कोविड-19 महामारी के से उत्पन्न व्यापारियों की समस्याओं के संदर्भ में आयोजित की गई। जिसमें वर्तमान में राज्य के व्यापारी वर्ग की कठिनाइयों एवं आर्थिक स्थिति पर विशेष रूप से चर्चा की गई। साथ ही साथ कोविड-19 से उत्पन्न संकट का सामना करने हेतु तथा राज्य के व्यवसाय को जीवित बनाएं रखने हेतु भी बैठक में चर्चा की गई। सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि मुख्यमंत्री व राज्य के सभी मंत्री गण व सांसद गणों तथा विधायक गण को व्यापार जगत की पीड़ा से अवगत कराया जाए। जिस के संबंध में आज मुख्यमंत्री एवं कैबिनेट मंत्री गण को एक ज्ञापन प्रेषित किया गया। वर्चुअल बैठक में प्रदेश महामंत्री विनय गोयल, प्रदेश कोषाध्यक्ष पुनीत मित्तल, प्रदेश संयोजक राजेंद्र प्रसाद गोयल, गढ़वाल प्रभारी विनोद गोयल, उपाध्यक्ष कृष्ण लाल आहूजा, महानगर दून के महामंत्री विवेक अग्रवाल, महानगर ऋषिकेश के अध्यक्ष पंकज गुप्ता, कोटद्वार से श्याम सुंदर गोयल, श्रीनगर से सुजीत अग्रवाल, सितारगंज से मदन लाल अग्रवाल व महेश चंद्र सिंगल कार्यकारिणी सदस्य राजेश सिंघल, अजय गर्ग, राजकुमार दीवान, महावीर प्रसाद इत्यादि सम्मिलित हुए।
सेवा में,
माननीय मुख्यमंत्री(उत्तराखंड) देहरादून
विषय: कोविड-19 के दौरान बाजार को खोलें जाने के संबंध में
महोदय,
जैसा कि आप सब को विदित ही है कि कोविड-19 महामारी का अत्यंत कठिन दौर चल रहा है। हालांकि पिछले कुछ दिनों से आपके द्वारा किए गए प्रयासों से राहत अवश्य महसूस हो रही है। इसके साथ ही हमें उद्योग एवं व्यापार जगत की कठिन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कोविड-19 से संबंधित जारी गाइडलाइंस का पूर्णतया पालन करते हुए दिन प्रतिदिन के खर्चे, कर्मचारियों के वेतन, बिजली पानी के बिल, प्रतिष्ठान इत्यादि के किराए एवं स्वयं की एवं परिवार की चिकित्सा संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु बाजार खोले जाने की आवश्यकता है। बहुत से व्यापारियों ने वर्तमान कोरोना काल में अपने प्रियजनों को इस कोरोना काल में खोया है। साथ ही साथ चिकित्सा संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए धन की कठिनाई भी महसूस की है। वर्तमान में व्यापार जगत भुगतान संकट जैसी स्थिति का सामना कर रहा है। व्यापारी वर्ग को केंद्र सरकार अथवा राज्य सरकार से कोई आर्थिक सहायता भी प्राप्त नहीं हो रही है। राज्य के व्यापारी की कमर पूर्ण रूप से टूट गई है।
अतः बाजारों को विभिन्न श्रेणियों में विभक्त करते हुए कम से कम सप्ताह में तीन बार अलग-अलग समय में सीमित- सीमित समय के लिए खोला जाना नितांत आवश्यक है। उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य में भी संपूर्ण व्यापार सीमित समय के लिए खुला रखा गया है। यही व्यवस्था सभी राज्यों द्वारा कमोबेश अपनाई गई है। परंतु न जाने किन कारणों से न तो इस दौरान व्यापारिक संगठनों को विश्वास में लिया जा रहा है ना ही इस संबंध में चर्चा की जा रही है। जबकि हमारा मानना है की व्यापारिक संगठन भी अपना अहम योगदान और सुझाव दे सकते हैं। इस संबंध में आपको सादर यह भी अवगत कराना है कि खाद्यान्न व परचून विक्रेताओं के प्रतिष्ठान सप्ताह में एक बार 4 घंटे खोले जाने के कारण बाजार में अत्याधिक भीड़ का दबाव बनता है जिससे कोविड-19 फैलने की संभावना और ज्यादा बढ़ रही है।
अतः आपसे अनुरोध है कि व्यापारियों के धैर्य की परीक्षा ना लेकर दिनांक 31 मई 2021 को राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस में बाजारों के लिए उपरोक्त अनुसार व्यवस्था करते हुए उत्तराखंड राज्य के सभी निवासियों को राहत प्रदान करने का कष्ट करेंगे। धन्यवाद
सादर
प्रदेश उद्योग एवं व्यापार मंडल समिति ,उत्तराखंड (रजिस्टर्ड) देहरादून
एवं सहयोगी संस्थाएं….

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close