Breaking Newsधर्म-कर्महरिद्वार

*योग कर, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए -कोरोना जैसी महामारी को भगाएं-योगाचार्य संगीता उपाध्याय*

"योग एक प्राचीन पुरातन पद्धतियों में से एक है! ऋषि-मुनियों ने इसे अपनाकर अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर बीमारियों को हमेशा अपने से दूर रखा। कालांतर में हम योग को भूल गए थे, लेकिन इधर कुछ वर्षों में योग का प्रचार प्रसार तेजी से बढ़ रहा है। देश -विदेश में इस प्राचीन परंपरा को लोग अपना रहे हैं और जटिल से जटिल बीमारियों को दूर भगा रहे हैं- संगीता उपाध्याय*

हरिद्वार-कोरोनावायरस से बचने के लिए लोग अलग-अलग उपाय कर रहे हैं। लोग कई प्रकार के नुस्खे अपनाने के साथ-साथ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए पुरानी परंपराओं की ओर भी लौट रहे हैं। इसमें सबसे महत्वपूर्ण उपाय है योग।

योग के नियमित अभ्यास से शरीर स्वस्थ तो रहता ही है साथ-साथ हमारी प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने में काफी मददगार साबित होता है। योगासन से यह खांसी, जुखाम, वायरल बुखार, कमर दर्द, सांस लेने की तकलीफ सहित बीमारियां भी दूर भगाती हैं। योग करने वाले व्यक्तियों में स्फूर्ति व ऊर्जा का संचार होने के साथ-साथ शरीर के नस नाड़ियों की शुद्धि भी होती है। साथ ही रोग से लड़ने की क्षमता भी मिलती है।

कोरोना काल में बढ़ी योग को लेकर जागरूकता-
भारत की पुरातन परंपरा दुनिया को कोरोना से लड़ने के लिए एक रास्ता दिखा रही है। लोग योग कर रोग को भगा रहें हैं। कोरोना काल में आयुर्वेदिक औषधियों का इस्तेमाल कर लोग काढ़ा से अपनाकर इम्
रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा रहें है तो वहीं कोरोना के कारण लोगों में योग को लेकर जागरूकता भी बढ़ी है। अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए लोग इन चीजों पर विशेष ध्यान दे रहे हैं।

कोरोना की वजह से लोग घरों में कर रहें है योग-
हम इस कोरोना काल में बाहर इधर उधर निकल नहीं सकते हैं इसलिए घर पर रहकर ही ऑनलाइन योग की क्लासेस ज्वाइन कर योग कर सकते हैं।
इन योगाभ्यासों से कोरोना से लड़ा जा सकता है
दरअसल कोरोना का संक्रमण उन लोगों को जल्दी अपना शिकार बना सकता है, जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कमजोर होती है। आमतौर पर होने वाले संक्रमण में भी अगर किसी व्यक्ति की इम्युनिटी कमजोर होती है, तो वह जल्दी बीमार हो जाता है। ऐसे में योग इम्युनिटी पॉवर को बढ़ाता है, तो आईये जान लेतें है कुछ आसान से कुछ आसन-
कपालभाति- एक प्रचलित प्राणायाम है। इस प्राणायाम को करने की प्रक्रिया में सांस लेते हैं और छोड़ते हैं। रोजाना करीब पांच मिनट तक इस प्रणायाम को करने से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होगी और आप किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचे रहेंगे।
कैसे करें –
सबसे पहले एक आसन बिछा लें, और इस पर बैठ जाएं-
सांस लीजिए और पेट पर जोर देते हुए तेजी से सांस को छोड़ें।
प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने के लिए इस प्राणायाम को आप रोज सुबह और शाम को पांच मिनट तक करें।
*अनुलोम विलोम-
अनुलोम विलोम से भी मजबूत होती है इम्युनिटी।
अनुलोम विलोम से आपको सामान्य रूप से होने वाली सर्दी, खांसी और जुकाम तक नहीं होती है। दरअसल अनुलोम विलोम प्रणायाम को करने से श्वसन क्रिया बेहतर हो जाती है। इसके अलावा एक रिसर्च के मुताबिक यह भी बताया जा चुका है कि इससे आपके शरीर की इम्युनिटी काफी मजबूत होती है।
कैसे करें –
एक शांत वातावरण में किसी भी आसन पर बैठ जाएं।
अब अपने बाएं हाथ के अंगूठे से, बायीं नाक के छिद्र को बंद करके, दायीं नाक के छिद्र से सांस लें।
अब दायीं नाक के छिद्र को अपनी एक उंगली से बंद करें और बायीं नाक के छिद्र को खोलकर, इसके जरिए सांस छोड़ें।
दूसरी ओर से भी इस प्रक्रिया को दोहराएं।
कोरोना वायरस के संक्रमण से बचे रहने के लिए इस प्राणायाम को रोज सुबह करीब पांच मिनट तक करें।
भस्त्रिका प्राणायाम-

*भस्त्रिका प्राणायाम कोरोना को रखेगा दूर-
भस्त्रिका प्राणायाम के जरिए भी आप कोरोना वायरस से संक्रमित होने से बचे रहेंगे। भस्त्रिका प्रणायाम को करने से शरीर की कोशिकाएं स्वस्थ बनी रहती हैं और श्वसन क्रिया से जुड़ी कोई भी बीमारी आपको नहीं होगी। साथ ही साथ आपकी इम्युनिटी भी मजबूत रहेगी। इसके कारण आप कोरोना वायरस के संक्रमण से बचे रहेंगे भी।
कैसे करें-
सबसे पहले किसी योग मैट पर बैठ जाएं।
अब एक गहरी सांस लें।
अब पेट पर जोर देते हुए सांस छोड़ें।
इस प्रणायाम को करीब 3-5 मिनट तक करें।
आप इसे सुबह और शाम दोनों समय कर सकते हैं।
प्राणायाम को आप रोज सुबह खुद तो करें ही, साथ ही अपनी फैमिली को भी इसे करने के लिए कहें। इससे न केवल आप कोरोना के संक्रमण में आने से बचेंगे बल्कि भविष्य में भी आप कई बीमारियों से बचे रहेंगे।
युगों से चला आ रहा है योग की परंपरा, जिसे दुनिया ने अपनाया
भारत में योग को निरोगी रहने की करीब पांच हजार वर्ष पुरानी मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक पद्धति के रूप में मान्यता प्राप्त है, जो भारतीयों की जीवनचर्या का अहम हिस्सा है। सही मायनों में योग भारत के पास प्रकृति प्रदत्त ऐसी अमूल्य धरोहर है, जिसका भारत सदियों से शारीरिक और मानसिक लाभ उठाता रहा है, लेकिन कालांतर में इस दुर्लभ धरोहर की अनदेखी का ही नतीजा है कि लोग तरह-तरह की बीमारियों के मकड़जाल में जकड़ते गए।

आप हमारे द्वारा प्रतिदिन ऑनलाइन योग क्लास से जुड़कर अपना व परिवार के स्वास्थ्य का खयाल रख सकते हैं। क्योंकि योगाभ्यास से पुरानी से पुरानी बीमारियों को जड़ से भगाया जा सकता है! हमारे द्वारा पूरे सप्ताह सुबह के समय योगा क्लासेज ऑनलाइन लगाई जाती है यदि आप हमसे जुड़ना चाहते हैं तो *मोबाइल नंबर 8899098085 पर अपना व्हाट्सएप नंबर लिखकर भेजें!
हम आपको प्रत्येक दिन योग से रोग भगाने की प्राचीन परंपरा से अवगत कराकर आपको निरोग बनाकर दवा के झंझटों से मुक्ति दिलायेंगे।

– संगीता उपाध्याय, योगाचार्य हरिद्वार।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close