ऋषिकेश

*परमार्थ नारी सशक्ति केन्द्र में ‘क्षमता वृद्धि प्रशिक्षण’ का समापन*

स्वयं सहायता समूह गठन प्रशिक्षण पांच से अधिक स्वयं सहायता समूहों का हुआ गठन अपनी मदद स्वयं करना सशक्त नारी - सशक्त राष्ट्र स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश, 11 अप्रैल। परमार्थ निकेतन द्वारा डिवाइन शक्ति फाउंडेशन के अन्तर्गत परमार्थ नारी सशक्ति केन्द्र की नारियों का दो-दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में 5 स्वयं सहायता समूहों का गठन किया गया तथा 5 समूहों का और गठन किया जायेगा। परमार्थ निकेतन के स्वयं सेवकों द्वारा अलग-अलग समूहों के साथ सम्पर्क किया जा रहा हैं ताकि मातृशक्तियों को स्वयं सहायता समूह के विषय में विस्तृत जानकारी दी जा सके। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य है कि महिलाओं कोे स्वरोजगार योजनाओं के लिये बैंकों से जोडकर उन्हें आत्म निर्भर बनाया जायें।
परमार्थ नारी सशक्ति केन्द्र, प्रकाश भारती एवं महिला व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र, देहरादून रोड पर विभिन्न समुदायों की महिलाओं एवं बेटियों को दो-दो दिवसीय स्वयं सहायता समूह ‘क्षमता वृद्धि प्रशिक्षण’ दिया गया।
इस अवसर पर परमार्थ निकेेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने महिला सशक्तिकरण पर अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त करना अत्यंत आवश्यक है। स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से वित्तीय संसाधनों तक महिलाओं की पहुँच को बढ़ाने हेतु क्षमता वृद्धि प्रशिक्षण कार्यक्रम के माध्यम से बेटियों और महिलाओं के कौशल को बढ़ाकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का उत्कृष्ट प्रयास है। कोविड-19 महामारी के इस दौर में लैंगिक समानता के साथ महिलाओं को वित्तीय प्रणाली और रोजगार से जोड़ना आवश्यक है ताकि वे जीवन में आने वाली आर्थिक चुनौतियों का सामना कर सके।
स्वामी जी ने कहा कि सतत् विकास लक्ष्य को प्राप्त करने और भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिये महिलाओं का वित्तीय समावेशन जरूरी है। उन्होंने बताया कि परमार्थ नारी सशक्ति केन्द्र के माध्यम से हमारा प्रयास है कि ऋषिकेश के स्लम बस्तियों की बहनों और बेटियों को महिला-केंद्रित योजनाओं से जोड़कर कर उन्हें आर्थिक रूप से सशक्त बनाना। कोरोना महामारी के कारण आय में कमी होने तथा नौकरियाँ छूटने के कारण महिलाएँ, पुरुषों की तुलना में अधिक प्रभावित हो रही है इसलिये हमारे सेन्टर के विशेषज्ञ प्रशिक्षकों द्वारा कौशल और क्षमता को बढ़ाने वाला प्रशिक्षण दिया जा रहा है ताकि वे आत्मनिर्भर होकर देश के विकास हेतु अपना योगदान प्रदान करें।
डिवाइन शक्ति फाउंडेशन की अध्यक्ष साध्वी भगवती सरस्वती जी ने इस प्रशिक्षण हेतु शुभकामनायें देते हुये अपने संदेश में कहा कि नारी सशक्तिकरण आत्मनिर्भर भारत की नींव है।
परमार्थ नारी सशक्ति केन्द्र में स्वयं सहायता समूह का प्रशिक्षण योग्य प्रशिक्षक मोनिका मित्तल अध्यक्ष (उपासना ग्राम संगठन सहकारिता, शिवाजीनगर, नीलम राय, जागृति समुह, श्रीमती मुन्नी राजपूत, अध्यक्ष सियाराम एसएचजी ने बड़ी ही खुबसूरती से दिया। प्रशिक्षण के अंत में उत्तराखंड ग्रामीण बैंक के मेनेजर और अन्य अधिकारियों ने इस योजना के अलावा अन्य योजनाओं की भी जानकारी प्रदान की।
प्रशिक्षण कार्यक्रम में जीवा कार्यक्रम समन्वय और क्रियान्वयन अधिकारी सुश्री गंगा नन्दिनी त्रिपाठी, वन्दना शर्मा, उपासना, रामचन्द्र शाह, पुष्पलता आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close