ऋषिकेश

*महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए सभी का सहयोग आवश्यक-सूरत सिंह रौतेला*


ऋषिकेश-अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आज क्षेत्र के समाजसेवियों ने जोकि समाज की गंदगी को साफ करने का कार्य कर रहे हैं जैसे सड़कों से पॉलिथीन उठाना कचरा उठाना और अपने बच्चों का पालन पोषण के लिए ई रिक्शा चलाकर अपनी जीविका का पालन पोषण कर रही हैपुराना बस अड्डा कचरा घर में जाकर बार एसोसिएशन अध्यक्ष सूरत सिंह रौतेला, तुलसी मानस मंदिर के अध्यक्ष रवी शास्त्री, आश्रम धर्मशाला एसोसिएशन के अध्यक्ष अभिषेक शर्मा, सारथी सामाजिक संस्था के अध्यक्ष राम चौबे सभी ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सभी महिलाओं का सम्मान पूर्वक शॉल ओढ़ाकर माला पहना कर पुष्प भेंट कर उनके उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए उन्हें सम्मानित किया गया।


इस अवसर पर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष समाजसेवी सूरत सिंह रौतेला एडवोकेट ने कहां की आज जहां हम भौतिकता में इतने खो चुके हैं कि अपने आसपास की गंदगी एवं स्वच्छता को सिर्फ कागजी कार्रवाई तक सीमित रख दिया है जोकि समाज की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए समाज को हर समय मैं महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए हमेशा खड़ा रहना चाहिए जिससे कि इनके आने वाला समय अच्छा एवं सुखमय हो सके।
उन्होंने अपने व्यक्तव में कहा कि शहर की संस्थाओं एवं धार्मिक आध्यात्मिक जगत को भी महिला उत्थान एवं महिला जनजागृति के माध्यम से जो हमारे क्षेत्र के आसपास की गंदगी को साफ कर रही है उनको समाज में एक अच्छा स्थान मिले उनका समाज में सम्मान हो जिससे उनको रोजगार के साथ-साथ शिक्षा स्वास्थ्य से भी वंचित ना रखें।
इस अवसर पर पंडित रवि शास्त्री ने महिला दिवस पर सभी मातृशक्ति का आभार प्रकट करते हुए सभी महिलाओं को नमन करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।
जिन महिलाओं का सम्मान हुआ जो अपने बच्चों का पालन पोषण कर ई-रिक्शा मधु, सोनी ,सीमा, मीना, शांति ,किरण मधु ,माया, शकीला, गुंजन भगवती ,आशा ,सावित्री आदि महिलाओं का सम्मान किया गया।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close