Breaking Newsऋषिकेशदेशभक्ति

*अमर शहीद बीएसएफ सब इंस्पेक्टर राकेश डोभाल पूर्णानंद घाट पर पंचतत्व में हुए विलीन*

ऋषिकेश में बीएसएफ के सब इंस्पेक्टर शहीद राकेश डोभाल के पूरे सैनिक सम्मान के साथ अंत्येष्टि की गई।

देवभूमि जेके न्यूज ऋषिकेश।

शहीद राकेश डोभाल की अंत्येष्टि में सरकार की तरफ से शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे, उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, महापौर अनीता ममगाईं, उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष प्रीतम सिंह, एसडीएम ऋषिकेश, आईटीबीपी के जवान और पुलिस के जवान भी मौजूद रहे।

शहीद राकेश डोभाल के अंतिम दर्शन में उमड़ा जनसैलाब।
Prev 1 of 1 Next
Prev 1 of 1 Next

शहीद को अंतिम सलामी विश्व के जवानों ने दी ऐसे में सुबह लगभग 9:30 बजे गंगा नगर स्थित उनके निवास स्थान से पार्थिव शरीर को उठाया गया और अंतिम यात्रा के लिए पूर्णानंद घाट के लिए निकले।
उनके अंतिम यात्रा में ऋषिकेश के लोगों का जनसैलाब उमड़ पड़ा क्या महिलाएं, क्या बच्चे, क्या बूढ़े अंतिम यात्रा में सम्मिलित होकर भारत माता की जय पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए यात्रा में सम्मिलित हुए। जगह-जगह व्यापारियों जन प्रतिनिधियों ने पार्थिव शरीर पर फूलों की वर्षा कर उन्हें अश्रुपूर्ण विदाई दी।

इस अवसर पर अंतिम यात्रा में उत्तराखंड सरकार की तरफ से पहुंचे शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने पूर्णानंद घाट पर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया। इस अवसर पर अरविंद पांडे ने कहा कि राकेश डोभाल निश्चित रूप से उत्तराखंड ही नहीं बल्कि पूरे देश का मान बढ़ाया है, और सीमा पर लड़ते हुए भारत माता की आन -बान और शान के लिए दुश्मनों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए हैं।

पूरा उत्तराखंड सरकार उनके साथ है और उन्होंने जो देश के सम्मान के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया है उन्हें हम सब याद रखेंगे और हमारी संवेदनशील परिवार के साथ है मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि उनके परिवार को दुख सहने की शक्ति दे और भगवान अपने चरणों में उन्हें वास दें, और उनके परिवार के लिए जो भी होगा सरकार पूरी तरह से उनकी मदद करेगी

छोटे भाई मयंक डोभाल ने मखाग्नि दी-

विधानसभ अध्यक्ष ने कहा सरकार से बात की जाएगी। नौकरी या जो भी प्रावधान होगा।

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने शहीद के नाम पर विधायक निधि से स्मृति द्वार भी बनेगा।

आपको बता दें कि ऋषिकेश के राकेश डोभाल बारामुला सेक्टर में तैनात थे। जहां पाकिस्तान के नापाक हरकतों के कारण सैनिकों द्वारा गोलाबारी में शहीद हुए, उनके सिर में गोली लगी थी और देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए थे।

यह खबर सुनकर परिवार वालों का बुरा हाल है शहीद राकेश डोभाल बीएसएफ में सब इंस्पेक्टर के पद पर तैनात थे ऋषिकेश स्थित गंगा नगर के रहने वाले और दुश्मनों से लोहा लेते उनके सिर पर गोली लगी थी जिसके बाद उनका इलाज के दौरान अस्पताल में निधन निधन हो गया था।
शहीद के पिता राजकीय महाविद्यालय में क्लर्क थे और कुछ साल पहले उनका देहांत हो गया था इसके बाद से उनकी मां महाविद्यालय में सेवारत सेवारत है। वही राकेश के बड़े भाई दिनेश डोभाल देहरादून ग्राफिक एरा में कार्यरत है। 2010 में राकेश डोभाल की शादी संतोषी से हुई थी। राकेश डोभाल अपने पीछे अपनी एक 10 साल की छोटी बिटिया छोड़कर शहीद हो गए हैं जो अभी मात्र चौथी कक्षा में पढ़ती है। उनकी पत्नी 8 माह के गर्भ से है और उनका रो रो कर बुरा हाल है। बार-बार पति को याद कर मूर्छित हो रही थी।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close