ऋषिकेशदेशभक्तिराजनीति

*उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष सहित विभिन्न संगठनों ने लौह पुरुष को याद किया*

देवभूमि जे के न्यूज़।

ऋषिकेश 31 अक्टूबर। विधानसभा अध्यक्ष के कैंप कार्यालय ऋषिकेश में आज लौह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल के जन्मोत्सव को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया गया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल ने सरदार बल्लभ भाई पटेल जी के चित्र पर माल्यार्पण कर नमन किया।वहीं विधानसभा अध्यक्ष ने बाल्मीकि जयंती पर भी अपनी शुभकामनाएं दी।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि सरदार पटेल के बताए रास्तों पर चलकर देश की एकता और अखंडता को कायम रखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल शांति प्रिय थे लेकिन देश की आजादी के लिए वह कठोर फैसले लेने से भी नहीं चूके।
अग्रवाल ने कहा कि राष्ट्रीय विपत्ति के समय उनकी अदम्य इच्छाशक्ति से एक नवीन दिशा प्राप्त हुई। जो आज भी प्रासंगिक है। उन्होने कहा कि सभी को लौह पुरुष पटेल जी से प्रेरणा लेनी चाहिए। उनके अधूरे सपने को पूरा करने की दिशा में काम करना चाहिए।

इस अवसर पर वक्ताओं ने लौहपुरुष के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए उनके आदर्श पर चलने का संकल्प लिया।इस अवसर पर वीर भद्र मंडल अध्यक्ष अरविंद चौधरी, पूर्व मंडल अध्यक्ष रमेश शर्मा, क्षेत्र पंचायत सदस्य प्रभाकर पैन्यूली, जिला पंचायत सदस्य दिव्या बेलवाल, राजेश व्यास, राकेश शर्मा, राजेश थपलियाल, कौशल बिजलवान सहित कई अन्य लोग उपस्थित थे।

इसके साथ ही राजकीय इंटर कॉलेज आईडीपीएल वीरभद्र के तत्वाधान में आज राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर उनको याद करते हुए उनके आदर्शों का अनुपालन करने का संकल्प लिया ।
इस अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य रमाशंकर विश्वकर्मा ने सरदार साहब के चित्र पर माल्यार्पण किया और विभाग द्वारा प्रेषित संकल्प पत्र का वाचन कर उपस्थित शिक्षक कर्मचारियों से शपथ ग्रहण कराई गई ।
इस अवसर पर हेतराम विद्यार्थी ,रामचंद्र तिवारी , मनोज कुमार गुप्ता, विनोद सिंह पवार, बलवीर सिंह रावत ,रामकरण यादव सहित कई लोग उपस्थित थे ।
विभिन्न संगठनों से जुड़े वाणिज्य विषय के प्रवक्ता नरेन्द्र खुराना ने लौह पुरूष की जयंती पर उन्हें भावपूर्ण स्मरण करते हुए बताया कि राष्ट्रीय एकता दिवस (National Unity Day) हर साल 31 अक्टूबर को मनाया जाता है. भारत के लौह पुरुष – सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती को मनाने के लिए भारत सरकार द्वारा साल 2014 में इस दिन की शुरुआत की गई थी !
सरदार पटेल अन्याय नहीं सहन कर पाते थे। अन्याय का विरोध करने की शुरुआत उन्होंने स्कूली दिनों से ही कर दी थी। तो हमे भी अन्याय नही सहना चाहिए!

लौहपुरुष बल्लभ भाई पटेल जी का कहना था कि “जब वक्त कठिन दौर से गुजर रहा होता है, तो कायर बहाना ढूंढते हैं जबकि बहादुर और साहसी व्यक्ति उसका रास्ता खोजते हैं,”तो हमे भी उनके आदर्श वाक्यो से प्रेरित होकर यह सीख लेनी चाहिए वर्तमान परिस्थिति जो कोराना कि है हमे भी उस परिस्थिति में अपने सभी गतिविधियों को भली भांति सावधानीपूर्वक कैसे करना है! यह देखना चाहिए!
आज का दौर भागम भाग का दौर है हम महापुरुषों को भूल जाते हैं हमें अपने बच्चों को महापुरुषों की जयंती पर उन्हें जानकारी अवश्य देनी चाहिए ,क्योंकि वर्तमान युग तकनीकी युग का है किंतु आज के दौर में लोग महापुरुषों रामायण और भागवत गीता जैसे पवित्र ग्रंथों से और महापुरुषों के इतिहास से वंछित होते जा रहे हैं! यह हमारे लिए गहन चिंता जनक विषय है हमे समय समय पर बच्चों को जागरूक करते रहना चाहिए!

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close