UNCATEGORIZED

*सेल्फडिफेंस के लिए छात्राओं को कराटे जैसी विधा में पांरगत होना बेहद आवश्यक- ऋषिकेश महापौर अनिता मंमगाई*

देवभूमि जे के न्यूज़ ऋषिकेश।

ऋषिकेश- नगर निगम महापौर ने कहा कि साहसिक खेलों में शानदार प्रदर्शन के बूते तीर्थ नगरी के खिलाड़ियों पिछले कुछ वर्षों से लगातार राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में शानदार प्रदर्शन कर ना सिर्फ तीर्थ नगरी बल्कि समूचे उत्तराखंड गौरवान्वित कर रहे हैं।

सेल्फडिफेंस के लिए छात्राओं को कराटे जैसी विधा में पांरगत होना बेहद आवश्यक है। उक्त विचार मंगलवार की सुबह नगर की हृदय स्थली त्रिवेणी घाट में विख्यात कराटे कोच शिवानी गुप्ता द्वारा युक्तियों के लिए आयोजित निशुल्क कराटे ट्रेनिंग कैंप में बतौर मुख्य अतिथि के रुप में शिरकत करते हुए नगर निगम महापौर अनिता ममगाई ने व्यक्त किए।

उन्होंने कहा कि मौजूदा दौर में युवतियों को आत्मरक्षा के लिए साहसिक खेलों में अवश्य प्रतिभाग करना चाहिए खास तौर पर जूडो कराटे की ट्रेनिंग युवतियों के लिए बेहद आवश्यक है। उन्होंने तीर्थ नगरी का नाम रोशन करने वाली कराटे कोच शिवानी गुप्ता के प्रयासों की भी मुक्त कंठ से सराहना की साथ ही कहा कि नगर निगम की ओर से उन्हें हर संभव सहयोग किया जायेगा।कराटे कोच शिवानी गुप्ता ने बताया कि कैम्प में मिशन अटैक के तहत आत्मरक्षा के गुर सिखा रही हैं ताकि छेड़छाड़ की घटनाओं और अचानक हुए हमले के दौरान अपनी और दूसरों की रक्षा बिना हथियार से युवतियां कर सके।

कोच शिवानी गुप्ता ने बताया कि ट्रेनिंग में युवतियों को सड़कों खासकर सुनसान इलाकों में अकेले चलते समय सतर्क रहने के तरीके बताए जाते हैं। इसके अलावा उनको छेड़छाड़ करने वालों पर तेजी से वार करने के तरीकों का भी प्रशिक्षण दिया जाता है। युवतियों को सिखाया जाता है कि वह कलम को भी हथियार के तौर पर कैसे इस्तेमाल कर सकती हैं। इसके अलावा उन्हें बालों को पकड़ना, दोनों हाथों से कान पर हमला, सिर से नाक पर हमला और आंखों पर हाथ से वार करना सिखाया जाता है।इस दौरान पार्षद कमलेश जैन,डी पी रतूड़ी, जितेंद्र पाल पाठी,सरोजनी थपलियाल, संगीता सागर आदि भी मौजूद रहे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close