ऋषिकेशराजनीति

*उत्तराखंड पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने किया योगनगरी ऋषिकेश रेलवे स्टेशन और शिवपुरी स्थित टनल का निरीक्षण*

पुराना रेल इंजन और प्लेन बढ़ाएगा योगनगरी ऋषिकेश रेलवे स्टेशन की शान!

देवभूमि जेके न्यूज, ऋषिकेश! उत्तराखंड के पर्यटन धर्मस्व, संस्कृति एवं सिंचाई मंत्री श्री सतपाल महाराज द्वारा पूर्व में ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन के लिए किए गए प्रयास आज धरातल पर साकार होते हुए प्रत्यक्ष रूप दिखाई देने लगे हैं।

ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे का मुख्य स्टेशन योग नगरी ऋषिकेश में बनकर तैयार हो चुका है। उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री श्री सतपाल महाराज ने आज ऋषिकेश योग नगरी में रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करने के साथ-साथ अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

सतपाल महाराज ने रेलवे स्टेशन के निरीक्षण के दौरान बताया बताया कि बताया कि ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन का मुख्य स्टेशन पूरी तरह बनकर तैयार है। पर्यटन की दृष्टि से इसको और अधिक विकसित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि रेल का पुराना इंजन और प्लेन योग नगरी ऋषिकेश रेलवे स्टेशन की शान बढ़ाएगा। दोनों को यहां धरोहर के रूप में रखा जाएगा।

कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने योग नगरी ऋषिकेश रेलवे स्टेशन की व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए रेलवे विकास निगम के परियोजना निदेशक हिमांशु बडोनी से स्टेशन के सभी तकनीकी पहलुओं पर भी चर्चा की। कैबिनेट मंत्री ने स्टेशन में पार्क, प्लेटफार्म, पटरियों का निरीक्षण करने के बाद स्टेशन मास्टर के कक्ष का भी निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने आला अधिकारियों को स्टेशन में एक रेल का पुराना इंजन और पुराना प्लेन धरोहर के रूप में रखने के लिए कहा। उन्होने कहा कि 22 हजार 42 करोड़ की लागत से बनने वाली ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन जिसमें 12 स्टेशन और 17 टनल हैं इससे चार धाम को भी जोड़ा जा रहा है।

इससे उत्तराखंड में पर्यटन को काफी बढ़ावा मिलेगा। उन्होने कहा कि रेलवे स्टेशन पर मानव उत्थान सेवा समिति की ओर से दो प्याऊ भी लगाये जायेंगे। रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करने के बाद पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने शिवपुरी स्थित रेलवे टनल के अन्दर जाकर उसका निरीक्षण भी किया।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close