ऋषिकेशदेशभक्तिशहर में खास

*शहीद हमीर पोखरियाल की द्वितीय पुण्यतिथि पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने भट्टोवाला मार्ग मे शहीद की स्मृति में विधायक निधि से तीन लाख 75 हजार रुपये की लागत से बने स्मृति द्वार का आज विधिवत लोकार्पण भी किया किया।*

देवभूमि जे के न्यूज़, ऋषिकेश!

ऋषिकेश 7 अगस्त।शहीद हमीर पोखरियाल की द्वितीय पुण्यतिथि पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने भट्टोवाला मार्ग मे शहीद की स्मृति में विधायक निधि से तीन लाख 75 हजार रुपये की लागत से बने स्मृति द्वार का आज विधिवत लोकार्पण भी किया किया।
इस अवसर पर अग्रवाल ने गुमानीवाला क्षेत्र के लिए विधायक निधि से 100 स्ट्रीट लाइट लगवाने की भी घोषणा की ।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकियों से मुकाबला करते हुए राईफल मैन हमीर सिंह पोखरियाल 27 वर्ष की उम्र मे 7 अगस्त 2018 को आतंकियो से लोहा लेते वक्त शहीद हो थे। वे भारतीय सेना में 36 राष्ट्रीय राइफल में तैनात थे ।


इस अवसर पर अग्रवाल ने शहीद हमीर पोखरियाल के पिता श्री जयेंद्र पोखरियाल, शहीद विकास गुरुंग के पिता रमेश गुरुंग, शहीद प्रदीप पोखरियाल के पिता कुंवर सिंह पोखरियाल को सम्मानित भी किया।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि मुझे गर्व है कि मैं ऐसे क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहा हूं जहां से हमीर पोखरियाल, प्रदीप रावत, विकास गुरंग सहित कई वीर जवानों ने देश की सेवा में अपने प्राणों को न्यौछावर किये। उन्होंने कहा कि जब जब भारत माँ की तरफ दुश्मनों की बुरी नजर पड़ी है तब-तब उत्तराखंड के सैनिक हमेशा पंक्ति पर खड़े दिखाई पड़ते हैं।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि आज के यह दिन देश की सुरक्षा के लिए सीमा पर खड़े वीर सैनिकों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का दिन है। इन वीर जवानों के त्याग व बलिदान के कारण ही राष्ट्र की सीमाएं सुरक्षित हैं।उन्होंने यह भी कहा कि वे वीर शहीदों के परिवारों के साथ हमेशा कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहेंगे।
इस अवसर पर सूबेदार किशोर सिंह, कैप्टन शिवपाल पोखरियाल, राजेश व्यास , मानवेंद्र कंडारी, दीपा राणा, चमन पोखरियाल, राजवीर रावत रवि शर्मा, सुमति देवी ,आरती भट्ट, रणजीत थापा, धर्मेंद्र सिंह छेत्री , बबीता डोभाल, संगीता शुक्ला आदि लोग उपस्थित थे । कार्यक्रम का संचालन तेक सिंह राणा ने किया ।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

error: Content is protected !!
Close