Breaking Newsस्वास्थ्य

एम्स ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में 21 लोगों की कोविड सेंपल रिपोर्ट पाॅजिटिव, जिनमें ऋषिकेश से 12 लोग शामिल है।

देवभूमि जे के न्यूज़, ऋषिकेश!

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में 21 लोगों की कोविड सेंपल रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है। जिनमें 12 स्थानीय लोग शामिल है। संस्थान की ओर से इस बाबत स्टेट सर्विलांस ऑ​फिसर को सूचित कर दिया गया है।
एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि संस्थान में की गई सेंपलिंग में 21 व्यक्तियों की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है। उन्होंने बताया कि श्यामपुर निवासी एक 28 वर्षीय गर्भवती महिला जो कि 15 जुलाई को ओपीडी में आई थी। जिसका कोविड सेंपल लिया गया था,जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है, महिला एसिम्टमेटिक( जिसमें रोग के लक्षण नहीं दिखाई पड़ते) है। महिला को एम्स कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। दूसरा मामला एम्स ऋषिकेश आवासीय परिसर निवासी एक 23 वर्षीय युवक जो कि बीते बुधवार को एम्स ओपीडी में आया था, जहां चिकित्सक ने इसका कोविड सेंपल लिया जो कि पॉजिटिव पाया गया है, यह युवक तीन दिन पूर्व राजस्थान से यहां आया था और 15 जुलाई से ही सीमा डेंटल कॉलेज ऋषिकेश में क्वारंटाइन था। आईडीपीएल निवासी एक 23 वर्षीय युवक जो कि एम्स में आयुष्मान भारत सेल में कार्यरत है बीते बुधवार को बुखार, खांसी व छाती में दर्द की शिकायत के साथ एम्स कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी में आया था, जहां इसका सेंपल लिया गया था, जिसकी रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई है। यह युवक बीती 15 जुलाई से होम क्वारंटाइन में था, युवक को एम्स कोविड वार्ड में भर्ती किया गया है। एक अन्य मामला टिहरी विस्थापित कॉलोनी का है, एक 35 वर्षीय महिला जो कि बुखार की शिकायत के साथ बीती 15 जुलाई को बुखार की शिकायत के साथ एम्स ओपीडी में आई थी, जिसकी कोविड सेंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, महिला होम क्वारंटाइन में थी, गौरतलब है कि महिला के पति की रिपोर्ट पूर्व में कोविड पॉजिटिव आई है, चिकित्सकों ने उसे नजदीकी सीसीसी सेंटर में भर्ती होने का सुझाव दिया है। उधर नई बस्ती रायवाला निवासी एक 39 वर्षीय महिला व महिला की 13 वर्षीय पुत्री जो कि बीती 15 जुलाई को एम्स कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी में आए थे, दोनों को गले में खराश की शिकायत थी, जहां मां व बेटी का कोविड सेंपल लिया गया था, इसके बाद से वह सीमा डेंटल कॉलेज में क्वारंटाइन थे, दोनों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। उन्हें नजदीकी सीसीसी सेंटर में भर्ती होने की सुझाव दिया गया है। एक अन्य मामले में शास्त्रीनगर ऋषिकेश गली नंबर छह निवासी एक 45 वर्षीय पुरुष जो कि बीते बुधवार को बुखार, गले में खराश व खांसी की शिकायत के साथ एम्स ओपीडी में आए थे, जहां उनका कोविड सेंपल लिया गया था, इसके बाद से वह होम क्वारंटाइन थे। इनकी रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई है, उक्त व्यक्ति को नजदीकी सीसीसी सेंटर में एडमिट के लिए कहा गया है। एक अन्य मामले में बैराज मार्ग निवासी एक 31 वर्षीय व्यक्ति जो कि एम्स में सिविल सिक्योरिटी में कार्यरत हैं, बीते बुधवार को बुखार व गले में खराश की शिकायत के साथ स्क्रीनिंग ओपीडी में आए थे, जहां इनका कोविड सेंपल लिया गया था, इसके बाद से वह सीमा डेंटल कॉलेज में क्वारंटाइन थे, उक्त व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। उन्हें नजदीकी सीसीसी सेंटर में भर्ती होने का सुझाव दिया गया है। आईडीपीएल, ऋषिकेश निवासी एक 45 वर्षीय व्य​क्ति जो कि गले में खराश की शिकायत के साथ बीती 13 जुलाई को एम्स ओपीडी में आए थे, जहां उनका सेंपल लिया गया था जो ​कि को​विड पॉजिटिव आया है, यह व्यक्ति सेंपल एक अन्य स्थानीय व्यक्ति जो ​कि पूर्व में कोविड संक्रमित पाए गए हैं उसके प्राइमरी कांटेक्ट में थे, उन्हें नजदीकी सीसीसी सेंटर में एडमिट होने को कहा गया है। भरत विहार ऋषिकेश निवासी एक 47 वर्षीय व्यक्ति गले में खराश की शिकायत के साथ व उनके 20 वर्षीय पुत्र बुखार व गले में खराश की शिकायत के साथ बीते बृहस्पतिवार को एम्स ओपीडी में आए थे, उनका कोविड सेंपल लिया गया था, बीती देरशाम पिता-पुत्र की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है। बताया गया कि वह पूर्व में कोविड पॉजिटिव आ चुके एक अन्य स्थानीय व्यक्ति के प्राइमरी कांटेक्ट में थे। इसके अलावा अन्य मामलों में अमर तालाब, रुड़की हरिद्वार निवासी एक 63 वर्षीय पुरुष जो कि बुखार की शिकायत के साथ बीती 15 जुलाई को एम्स इमरजेंसी में आए थे, जहां उनका कोविड सेंपल लिया गया था व उन्हें एम्स आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया,जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है, बताया गया कि उक्त व्यक्ति अपने पुत्र के प्राइमरी कांटेक्ट में थे जो कि पूर्व में कोविड पॉजिटिव आ चुका है। उक्त व्यक्ति को एम्स कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। देवलचोरी हल्द्वानी नैनीताल निवासी एक 39 वर्षीय महिला जो कि बीते बुधवार को स्वास्थ्य खराब होने पर एम्स आईपीडी में भर्ती हुई थी, जहां इनका कोविड सेंपल लिया था जिसकी रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है,जिसके बाद उन्हें एम्स के कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। रामनगर, नैनीताल निवासी एक 45 वर्षीय व्यक्ति जो कि बीती 15 जुलाई को मधुमेह व उच्च रक्तचाप आदि की शिकायत के साथ एम्स इमरजेंसी में आए थे, जहां इनका कोविड सेंपल लिया गया था, जो कि पॉजिटिव पाए गए हैं। उक्त व्यक्ति इसके बाद से एम्स आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे, जिन्हें एम्स कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। एक अन्य मामला ज्वालापुर हरिद्वार का है, एक 65 वर्षीय कैंसर पीड़ित महिला जो कि बीती 15 जुलाई को बायोप्सी के लिए एम्स ऋषिकेश आई थी, जहां इनका कोविड सेंपल लिया गया था, महिला वर्तमान में अपने घर पर है, जिनकी रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है। डिस्ट्रिक्ट सर्विलांस ऑफिसर से उक्त कोविड पॉजिटिव महिला को नजदीकी कोविड अस्पताल में एडमिट करने को कहा गया है। हकीकतनगर, सहारनपुर निवासी एक 30 वर्षीय युवक जो कि एम्स के गेस्ट्रोलॉजी विभाग में भर्ती एक पेशेंट के अटेंडेंट हैं। युवक 15 जुलाई को एम्स इमरजेंसी में आए थे,जहां उनका कोविड सेंपल लिया गया था जो कि पॉजिटिव आया है, पेशेंट को एम्स कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। एक अन्य मामले में खेड़ी शामली, उत्तरप्रदेश निवासी एक 45 वर्षीय कैंसर पीड़ित व्यक्ति जो कि बीती 15 जुलाई को एम्स में बायोप्सी के लिए आए थे, उक्त व्यक्ति का कोविड सेंपल पॉजिटिव पाया गया है। यह व्य​​क्ति वर्तमान में अपने घर पर है तथा एम्स संस्थान द्वारा शामली के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को कोविड पॉजिटिव पेशेंट के बाबत संपूर्ण जानकारी उपलब्ध करा दी गई है। इसी प्रकार जजवा, सहारनपुर निवासी एक 41 वर्षीय महिला जो कि एम्स में भर्ती एक अन्य पेशेंट की अटेंडेंट है, महिला का बीती 15 जुलाई को एम्स में लिया गया कोविड सेंपल पॉजिटिव आया है, इस बाबत सहारनपुर के सीएमओ को अवगत करा दिया गया है। साथ ही सतपुली, पौड़ी गढ़वाल निवासी एक 40 वर्षीय महिला जो ​कि बीते बुधवार को एम्स ओपीडी में आई थी, यह महिला यहां भर्ती एक अन्य महिला की अटेंडेंट है। महिला का एम्स ओपीडी में लिया गया सेंपल कोविड पॉजिटिव पाया गया है। उसे एम्स के कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि संबंधित मामलों के बाबत स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है ।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

22 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close