ऋषिकेश

उत्तराखंड में सरकारी नौकरी करने वाले कर्मचारियों,जो 50 वर्ष की आयु पूरी कर चुके हैं, उन्हें तीन महीने का नोटिस दे कर अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का शासनादेश में कितनी सत्यता?- जयेंद्र रमोला!

देवभूमि जे के न्यूज़, ऋषिकेश!
आज दिनॉंक 15/7/2020 को जारी एक बयान में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के साथ सदस्य जयेन्द्र रमोला ने कहा कि कोरोना की इस वैश्विक महामारी में जहाँ सरकार को आमजनों तक राहत व रोज़गार देने का कार्य करना था वहीं उत्तराखण्ड सरकार का एक सरकारी आदेश जोकि सोशल मीडिया में घूम रहा है।
जो उत्तराखंड सचिवालय प्रशासन के अपर सचिव की तरफ से अपर मुख्य सचिव,प्रमुख सचिव और सचिवों को भेजा गया है, पत्र में उत्तराखंड में सरकारी नौकरी करने वाले कर्मचारियों,जो 50 वर्ष की आयु पूरी कर चुके हैं, उन्हें तीन महीने का नोटिस दे कर अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का शासनादेश 05 मई 2020 को मुख्य सचिव द्वारा निकाला जा चुका है ।
मुझे उत्तराखंड शासन व प्रशासन से पहले यह बात जाननी है कि क्या यह आदेश असली है ?
और असली होने का या न होने वाली बात इसलिए पूछ रहा हूँ कि भाजपा की राज्य सरकार अजब-गज़ब सरकार है, क्योंकि आपकी सरकार में कुछ भी मुमकिन है, अभी कुछ दिन पूर्व परिवहन सचिव के दस्तखतों वाला आदेश निकला, जिसमें आर.टी.ओ. का तबादला किया गया था, जिसका खुलासा तब हुआ जब अधिकारी जॉइनिंग-रिलिविंग की प्रक्रिया में गया तो पता चला कि ऐसा कोई आदेश ही नहीं है ।
इसलिए यह सत्यता जानना अत्यंत आवश्यक है कि आदेश असली है या नहीं ।
बहरहाल, यदि आदेश असली नहीं है तो इस नकली आदेश को जारी करने वालों विरूद्ध कार्यवाही सुनिश्चित हो, लेकिन यदि आदेश असली है तो फिर ये गम्भीर विषय है क्योंकि जहां एक ओर प्रदेशवासी लॉक डाउन के चलते बेरोज़गारी से पीड़ित हैं वहीं दूसरी ओर प्रदेश सरकार प्रदेश के लोगों को नौकरी देने की बजाय सरकारी कर्मचारियों को 50 साल में ही नौकरी से मुक्त कर रही है, जो प्रदेश का प्रदेशवासियों के साथ धोखा है, हमारी मॉंग है कि इस आदेश को शीघ्र ही निरस्त कर सरकारी कर्मचारियों को राहत दें ।
अन्यथा हमें सड़कों पर आन्दोलन को बाध्य होना पड़ेगा ।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close