शहर में खासशिक्षा

*उत्तराखण्ड देवभूमि से साहित्य की सशक्त हस्ताक्षर डॉ कविता भट्ट*

कुलं पवित्रं जननी कृतार्था वसुन्धरा पुण्यवती च येन।

देवभूमि जे के न्यूज, ऋषिकेश!
जिस कुल में वे महापुरुष अवतरित होते हैं वह कुल पवित्र हो जाता है, जिस माता के गर्भ से उनका जन्म होता है वह भाग्यवती जननी कृतार्थ हो जाती है और जहां उनकी चरणरज पड़ती है वह वसुन्धरा भी पुण्यवती हो जाती है।
उक्त सूक्ति चरितार्थ होती है उत्तराखण्ड देवभूमि मे
साहित्य की सशक्त हस्ताक्षर ,कलम की सजग प्रहरी उत्तराखण्ड की बेटी जो अपने साहित्यक नाम “शैलपुत्री” उपाधि से विभूषित -, जतो नाम ततो गुण की भावना से देवभूमि की शेक्षणिक ,संस्कृतिक एवं साहित्यक सेवा कर रही है, उत्तरापथ का साहित्यक इतिहास पर हम दृष्टिपात करें तो हम पाते है कि जितने भी साहित्यकार इस भूमि पर जन्मे है उन मे आपका कृतित्व व्यक्तित्व सदैव अवर्णनीय एवं अतुलनीय है । देवभूमि की प्राकृतिक सुंदरता की तरह आपकी प्रतिभा सरल है, जब आप इस पवित्र मिट्टी की खुशबू को देवभूमि के मंचों पर ही नहीं अपितु सम्पूर्ण देश के राष्ट्रीय मंचों पर ले जाने का जो कार्य करती हैं आपकी इस कृतज्ञता पर हमें गर्व होता है। केवल बुद्धिमान होना या उपाधियों के पुलिंदों के साथ साहित्य के मंचों पर ऊँचा उठना ही जीवन का उद्देश्य नहीं है, बल्कि आपकी प्रतिभा में हमेशा भावनाओं के तीर्थों के पावन दर्शन होते हैं , मैं उन माता-पिता के चरणों को भी नमन वंदन करता हूँ जिनके संस्कारों का गंगाजल इस अविरल सतत प्रवाहमान जान्ह्वी के पावन अमृतमय जलधारा की तरह इस हिम शिखर के गुरुत्व के बीजों को राष्ट्र की साहित्य की उन्नत खेती के निर्माण मे महत्वपूर्ण योगदान के लिए हर समय के लिए तैयार किया है। साहित्य मे आपका कृतित्व व्यक्तित्व हिम शिखर से आने वाली धवल धाराओं की तरह, देवभूमि के साहित्य अनुष्ठान के यज्ञ के लिए अर्णी मंथन की भूमि तैयार करते हुए यहाँ के स्वाभिमान , सम्मान, यशोगान को पूरे देश में प्रसारित प्रचारित कर रही है। जहां आपकी प्रतिभा के सामने कलम उठाने की हिम्मत नहीं होती लेकिन आपकी सरलता सहजता व अलकनन्दा के जल की तरह स्वभाव की निर्मलता ने आपके कृतित्व पर लिखने का साहस दिया है।
डॉ कविता भट्ट एक हिमालयी बेटी के रूप में, देवभूमि उत्तराखंड में साहित्य की एक सशक्त हस्ताक्षर हैं, जो अपनी विलक्षण प्रतिभा के मंथन से साहित्य के पवित्र संस्कार के आलोक को बनाए रखने के लिए एक समर्पित होकर अथक प्रयास कर रही है। एक सामान्य परिवार में जन्मी बेटी ने अखंड ज्योति की प्रतिभा के साथ भारत के विभिन्न प्रांतों के मंचों को रोशन किया है। अपने ज्ञान की अन्वेषणशाला से अनेको शिष्यों को आलोक पुंज बनाकर सेवा के तीर्थों के लिए तैयार किया है , जो आज अनेक क्षेत्रों मे अपनी सेवाएं दे रहे है अनेक विषयों मे अपने कौशल से परिपूर्ण डॉ कविता भट्ट योग विज्ञान की विशेषज्ञ हैं जिस पर अनेक ग्रन्थों , शोध पत्रों,पुस्तकों को लिखने के साथ पत्र पत्रिकाओं की सम्पादक हैं देश विदेशों मे भी साहित्य , संस्कृति एवं योग विज्ञान की त्रिवेणी के संगम की पावन वसु धारा को बांटने का कार्य कर रही हैं ।वर्तमान समय मे सम्प्रति हेमवंती नन्दन गढ़वाल केंद्रीय विश्व विद्यालय श्रीनगर गढ़वाल मे रिसर्च एसोशिएट के पद पर रहते हुए अनेकों साहित्यक ,सांस्कृतिक ,शेक्षणिक पुरस्कारों से सम्मानित डॉ कविता भट्ट देश विदेश की कई महत्वपूर्ण संस्थाओं की सम्मानित पदाधिकारी ,सदस्य एवं समन्वयक है राष्ट्रीय संस्था उंन्मेष् जो विज्ञान के क्षेत्र मे नये आयामों का सृजन करती है उसकी वरिष्ठ पदाधिकारी हैं ।
साहित्य सृजन के क्षेत्र मे डॉ भट्ट को साहित्य शिरोमणि कहा जाय तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी निलाम्बरा कव्यकोश के साथ अनेक चेनलों के माध्यम से भी साहित्य मंचों पर प्रस्तुति देती हैं , अनेक भाषाओं की ज्ञाता होने के साथ अपनी मातृ भाषा गढ़वाली बोली को “अपणि संस्कृति अपणि पछयाण “के प्रति समर्पित होकर एक अतुलनीय पहचान रखती हैं कई कालजयी रचनाओं की सृजक अपने आभा मण्डल पर मुस्कान ,सम्मान व स्वाभिमान की सुंदरता रखने वाली बेटी इस देवधरा की अमूल्य धरोहर के साथ आन ,बान व शान के रूप मे है । वर्तमान समय मे जहाँ सारा विश्व वैश्विक महामारी के संकट मे अपने राष्ट्र के नागरिकों को बचाने के लिए अथक प्रयास कर रहा है वहीं डॉ कविता भट्ट शैलपुत्री अपने लेख, कविताओं व ओन लाइन सेमिनारों के माध्यम से जन चेतना के कार्यक्रम प्रचारित – प्रसारित कर रही हैं।
हमें आशा और विश्वास है कि जहां बेटी पढाओ बेटी बचाओ के संदेश की बात सम्पूर्ण राष्ट्र मे की जा रही है,वहीं उत्तराखंड की बेटियां हर सेवा क्षेत्र में अपना गोरवशाली स्थान बना रही हैं, जिस पर हमें गर्व है डॉ कविता भट्ट जैसी बेटियाँ इस प्रेरणा की स्रोत के रूप मे होंगी ।
– डॉ सुनील दत्त थपलियाल

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

86 Comments

  1. To bole and we all other the former ventricular that buy palpable cialis online from muscles still with still vital them and it is more plebeian histology in and a box and in there rather helpful and they don’t identical liquidation you are highest skin misguided on the international. sildenafil dapoxetine Wxawpl ipwuwd

  2. Get this checklist of essential supplies every home needs Radiation Exposure FAQs We tapped the CDC for
    information on what you need to know about radiation exposure What to Do
    in a Natural Disaster Emergency Learn what to do in the event of an earthquake, tsunami,
    tornado and hurricane Sports Medicine: 5 Little-Known Facts Orthopedic surgeon Dr.
    order viagra online Get
    this checklist of essential supplies every home needs Radiation Exposure FAQs We tapped the CDC for information on what you need to know about radiation exposure What to Do in a Natural
    Disaster Emergency Learn what to do in the event of an earthquake,
    tsunami, tornado and hurricane Sports Medicine: 5 Little-Known Facts
    Orthopedic surgeon Dr.

  3. As the cancer grows in the prostate, it can cause various localized and related symptoms, including:
    If the tumor presses on to the spinal cord, it can cause a weakness or numbness in the
    extremities, or result in bladder or bowel incontinence. https://genqpviag.com generic
    viagra australia legitimate

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close