धर्म-कर्म

मन एक सुन्दर नौकर हैं और एक खतरनाक स्वामी-ओशो!

मैंने कभी नियम नहीं बनाये क्योंकि नियम कारावास हैं, भविष्य के लिए बाधक हैं।”

बी भूमि जे के न्यूज़!
1- “समस्यों से, गंभीरता से कभी गंभीर न हो। इस पर हँसते रहो। थोडा मूर्ख बनो। मूर्खता की निंदा मत करो ; इसका अपना मजा है।”

2- “दुनिया में सबसे बड़ा डर दूसरों की राय है,और जिस पल आप भीड़ से अगल होते हैं, आप भेड़ नहीं होते बल्कि अब आप शेर बन जाते हैं। आपके दिल में एक बड़ी गर्जना उठती है वो है ‘स्वतंत्रता की गर्जना .”

3- “जब तक इंसान सृजन कला नहीं जानता तब तक वह अस्तित्व का अंश नहीं बनता।”

4- “यदि आप अपने आप से प्यार नहीं करेंगे तो कोई दूसरे आपसे प्यार नहीं करेगा। यदि आप ऐसा करेंगे तो आप देखेंगे की हर कोई आपसे प्यार करेगा।”
5- “व्यक्ति के शोषण की अहम् वजह डर हैं।”
6- “प्यार तभी प्रामाणिक होता है जब वह स्वतंत्रता देता है।”

7- “जीवन में जब अंधकार हो तो घवराना नहीं चाहियें क्योंकि सितारों को देखने के लिए एक निश्चित अंधेरे की आवश्यकता होती है।”

8- “अगर आप खुश नहीं हैं तो जीवन का कोई महत्व नहीं है। गाओ, नाचो झुमो, फिर भी जीवन का कोई महत्त्व नही होंगा. आपको विचारशील और गंभीर बनने की जरुरत है। ये एक बहोत बड़ा मजाक होंगा।”
9- “आप कभी यह उम्मीद न करें की निराशा नहीं होगी। निराशा तो सिर्फ एक छाया है जो उम्मीदों का पीछा करती है।”

10- “आप सत्य को बाहर खोजेंगे तो नहीं मिलेगा। यह आपके अंदर ही हैं जिसका केवल अहसास किया जा सकता है।”
11- “आपको अपने जीवन का सम्मान करना चाहियें। जीवन से अधिक पवित्र कुछ भी नहीं है, जीवन से अधिक दिव्य कुछ भी नहीं है।”

12- “अपने आप को स्वीकार करो जैसे आप हो। यह कठिन हो सकता है क्योंकि आप दूसरों से तुलना करते हो। ”

13- “अपने भीतर आप जो बुनियादी ढाँचा ढो रहे हैं, वह यह है कि आप हमेशा किसी न किसी से प्यार करते हैं।”

14- “कभी भीड़ का नहीं होता, कभी किसी राष्ट्र के नहीं, कभी किसी धर्म के नहीं, कभी किसी दौड़ से संबंधित नहीं बल्कि पूरे अस्तित्व से संबंधित। अपने आप को छोटी चीज़ों तक सीमित क्यों रखें, जब पूरा उपलब्ध है।”

15- “अधूरे ज्ञान के साथ आप पूरा फल कभी भी प्राप्त नहीं कर सकते। ऐसा करने पर आपको लगेंगा की आप अज्ञानी हो, और अंत तक अज्ञानी ही बने रहोंगे।”

16- “मैंने कभी नियम नहीं बनाये क्योंकि नियम कारावास हैं, भविष्य के लिए बाधक हैं।”

17- “यदि आप पूर्ण (Perfect ) हैं तो आप ग्रो नहीं करोगे। ग्रोथ तभी संभव है जब अपूर्ण (Imperfect) हो।”

18- “मन एक सुन्दर नौकर हैं और एक खतरनाक स्वामी।”

19- “यदि आप प्यार से जी रहे हो तो एक महान ज़िंदगी जी रहे हो क्योंकि प्यार ही ज़िन्दगी को महान बनता है।”

20- “बाहर से आप अपने आप को कितना भी बदल दें आपको संतुष्टि नहीं मिलेगी। इसके लिए आपको अपने अंदर से बदलाव लाने होंगे।”
21- “प्यार सांस लेने जैसा होना चाहिए। आप जहां भी हों, आपमें यह एक गुण होना चाहिए कि आप किसके साथ हैं। यहां तक कि अगर आप अकेले हैं, तो भी प्यार आप पर हावी हो जाता है। यह किसी के प्यार में होने का सवाल नहीं है – यह प्यार होने का सवाल है।”

22- “अकेले रहना खूबसूरत है, प्यार में होना, लोगों के साथ होना भी खूबसूरत है,और वे पूरक हैं, विरोधाभासी नहीं।”

23- “सच्चा प्रेम अकेलेपन से बनता हैं। जब आप अकेले होते हैं सच्चा प्रेम और खुशी इतनी बहती है की आप उसे बाटना चाहते हैं।”

24- “जब मै कहता हूँ की तुम ही देवता हो और तुम ही देवी हो तो मेरा मतलब यह होता है की तुम्हारी संभावनाये अनंत है और तुम्हारी क्षमता भी अनंत है।”

25- “अगर आप प्यार पाना चाहते हैं तो प्यार दो, प्यार को प्राप्त करने की कोशिश मत करो। आप भूल जाओ की आप पाना भी चाहते हो, बस दो। मैं आपको यकीन के साथ कहता हूँ आपको बहुत कुछ मिलेगा। बस प्यार करो, क्योंकि प्यार इतना खूबसूरत है कि प्यार पाना इतना बड़ा नहीं है।”

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

30 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close