स्वास्थ्य

कोविड-19 संक्रमण से बचने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खों की जानकारी दी।

देवभूमि जे के न्यूज!

ऋषिकेश 20 मई।विधानसभा अध्यक्ष के बैराज स्थित कैंप कार्यालय में आज कोरोना से बचाव हेतु अंतरराष्ट्रीय आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ डीके श्रीवास्तवा एवं उनकी टीम ने विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल से भेंट की।इस दौरान आयुर्वेद विशेषज्ञ द्वारा विधानसभा स्टाफ के कर्मचारियों सहित उपस्थित अन्य लोगों को कोविड-19 संक्रमण से बचने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खों की जानकारी देते हुए इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक दवाइयां भी वितरित की गई।

इस अवसर पर आयुर्वेद विशेषज्ञ द्वारा सभी को दवाइयों के उपयोग की जानकारी दी गई साथ ही विधानसभा अध्यक्ष को आयुर्वेदिक औषधियों से युक्त काढ़ा का सेवन भी कराया गया।डॉ0 डी0के0श्रीवास्तवा कहा कि हमारी समझदारी ही हमारा बचाव है हम कोरोना के साथ भी जीवन सफल बना सकते है ।इस महामारी से बचाव के लिए उन्होंने सभी से अनुरोध किया कि भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा दिशा निर्देशों का अनुशासन से पालन करे ।उन्होंने कहा कि हम कब और कैसे कोविड 19 नामक महामारी की चपेट से ,उसकी घातक लपेट से बाहर निकलेंगे कोई नही जानता, न वैज्ञानिक,न स्वास्थ्य विशेषज्ञ, न समाजशास्त्री और न ही अनुभवी बुजुर्ग।उन्होंने कहा कि जीवन रक्षक और कोरोना से बचाव हेतु सदा गरम पानी पिये, नाकों में सरसों का तेल दो बार लगाएं और घर मे प्रतिदिन हल्दी, दालचीनी,काली मिर्च,अदरक तुलसी पत्र ,विल्व पत्र,छोटी पिप्पली , मुलेठी, अशवगंधा इत्यादि जो भी उपलब्ध हो का काढ़ा चाय के रूप में दिन में दो बार सेवन करें।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ डीके श्रीवास्तवा एवं उनकी टीम का आभार व्यक्त किया। अग्रवाल ने कहा कि आज की आवश्यकता यह है कि कोरोना कहर से प्रभावित लोगों को जल्द से जल्द सीधी राहत मिले जिसके लिए सरकार तत्पर है।राज्य में कोरोना का मीटर अपने शीर्ष की ओर बढ़ रहा है।उन्होंने कहा कि आम आदमी भी अब तक तो इतना जागरूक हो गया है कि सतर्कता और सजगता का मायने समझता है।श्री अग्रवाल ने कहा कि अब यदि कोरोना वायरस से बचना है तो शरीर की इम्युनिटी पावर बढ़ानी ही होगी जिसके लिए हमें आयुर्वेदिक नुस्खों का उपयोग करने की जरूरत है।
कार्यक्रम में ऋषिकेश अयुर्वेदिक डॉ एसोसिएशन के सचिव डॉ0 भास्कर आनंद एवं फार्मासिस्ट नीतीश बधानी, संजय रतूड़ी एवं मदन खाती उपस्थित थे।

जय कुमार तिवारी

*हमेशा सच का साथ देना! ईमानदारी से आगे बढ़ना, दीनहीनों की आवाज को आगे पहुंचाना। सादा जीवन उच्च विचार और प्रकृति के बनाए हुए दायरे में जीवन निर्वहन करना। झूठ बोलने वालों और फरेब से दूर रहना, कभी किसी के अहित की बात नहीं सोचना। ईश्वर मेरे साथ हमेशा खड़े हैं!*

Related Articles

50 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
Close